ताज़ा खबर
 

यह है दुनिया का सबसे ‘भद्दा’ डॉगी, प्रतियोगिता में जीता पहला स्थान

प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए पूरी दुनिया भर से कुत्ते आए थे। लेकिन इस प्रतियोगिता में सबसे बदसूरत कुत्ते का खिताब नौ साल के इंग्लिश बुलडॉग जसा जसा को मिला। जसा जसा ने बदसूरती के मामले में विरोधी कुत्तों को पीछे छोड़ते हुए खिताब हासिल किया है।

दुनिया के सबसे बदसूरत कुत्‍ते का खिताब जीतने वाला जसा जसा अपनी मालकिन के साथ। फाेटो- रायटर्स

अमेरिका के सेन फैंसिस्को बे एरिया में अनोखी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। ये आयोजन दुनिया के सबसे भद्दे और बदसूरत कुत्तों का था। इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए पूरी दुनिया भर से कुत्ते आए थे। लेकिन इस प्रतियोगिता में सबसे बदसूरत कुत्ते का खिताब नौ साल के इंग्लिश बुलडॉग जसा जसा को मिला। इस प्रतियोगिता में जसा जसा ने बदसूरती के मामले में अपने सभी विरोधी कुत्तों को पीछे छोड़ते हुए ये खिताब हासिल किया है। सबसे बदसूरत कुत्तों की खोज का ये आयोजन पेटालुमा के सोनोमा मारिन फेयरग्राउंउ में शनिवार (23 जून) की रात आयोजित किया गया था। जसा जसा की मा​लकिन मिनिसोटा के अनोका की मेगन ब्रेनार्ड थीं। प्रतियोगिता में जसा जसा को जीतने के बाद उन्हें 1500 यूएस डॉलर बतौर पुरस्कार राशि दी गई है। ब्रेनार्ड ने जसा जसा के जीतने पर बताया कि ये कुत्ता उन्हें एक पेट फाइंडिंग साइट से मिला था।

इस सालाना प्रतियोगिता में कुत्ते अपनी कमजोरियों और कमियों का प्रदर्शन करते हैं। प्रतियोगिता में हिस्सा लेने आए कुछ कुत्तों के शरीर में बाल भी नहीं थे। जबकि कुछ कुत्तों की जीभ उनके जबड़ों से अतिरिक्त बाहर की ओर लटकी हुई थी। कुत्ते और उनके मालिकों के आने पर रेड कारपेट भी बिछाया गया था। कुत्तों की बदसूरती का मूल्यांकन करने के लिए जजों का पूरा पैनल मौजूद था। प्रतियोगियों में काले रंग के मस्सों वाला चीनी मूल का डैसमंड मट भी शामिल था। वहीं एक बुलडॉग भी आया था जिसकी खाल अतिरिक्त झुर्रियों और सिलवटों से भरी हुई ​थी। इस कुत्ते का नाम वाइल्ड थांग था।

इस प्रतियोगिता का पिछले साल का विजेता करीब 57 किलो वजनी नियोपॉलिटन मैस्टिफ था। इस कुत्ते का नाम मार्था था। ये प्रतियोगिता करीब 30 सालों से आयोजित होती चली आ रही है। पहले इसे शुक्रवार की शाम को आयोजित किया जाता था। लेकिन बाद में आयोजकों ने ज्यादा भीड़ जुटाने के मकसद से इसे शनिवार की शाम को आयोजित करने का फैसला किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App