ताज़ा खबर
 

इस रेस्तरां में परोसी जाती है ‘मौत’, नरकंकालों के बीच ताबूत में लेटकर लोग पीते हैं ‘डेथ’ ड्रिंक

इस रेस्तरां में ग्राहकों के लिए सफेद रंग का ताबूत है, जिसे फूलों से सजाया गया है। ग्राहक इस ताबूत में लेटकर अपनी मौत के बाद के पलों की परिकल्पना कर सकते हैं। खास बात यह है कि कुछ मिनट ताबूत में लेटकर ग्राहक पेय पदार्थों पर छूट पा सकते हैं।
इस कैफे के मेन्यू में ‘डेथ’ और ‘पेनफुल’ नाम के ड्रिंक्स हैं।(फोटो सोर्स- इंस्टाग्राम)

थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक का एक अजीबोगरीब रेस्तरां इन दिनों काफी सुर्खियां बटोर रहा है। इस रेस्तरां का नाम है ‘डेथ अवेयरनेस’ कैफे। यहां आने वाले लोगों ग्राहकों को जीते जी मौत का अहसास कराया जाता है। ग्राहकों को फूलों से सजे ताबूत में लेटाकर उनका ऑर्डर लिया जाता है। यह अजीबोगरीब रेस्तरां अपने इस आइडिया की वजह से लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रहा है। लोग खुशी से इस रेस्तरां में आते हैं और नरकंकालों के साथ ‘डेथ’ और ‘पेनफुल’ ड्रिंक एन्जॉय करते हैं।

‘डेथ अवेयनेस’ कैफे के खोले जाने के पीछे बौद्ध सिद्धांत बताए जा रहे हैं। इस रेस्तरां के बारे में कहा जा रहा है कि यह कैफे लोगों को अपनी जिंदगी के प्रति जागरूक होने का संदेश देगा। इस अनोखे आइडिया की वजह से लोग अपने जीवन मूल्य को अच्छे से समझेंगे और अच्छी जिंदगी जीने की कोशिश करेंगे। इस जगह का नाम ‘किड मई डेथ कैफे’ है। किड मई का अंग्रेजी में अर्थ होता है ‘थिंक न्यू।’

इस रेस्तरां में ग्राहकों के लिए सफेद रंग का ताबूत है, जिसे फूलों से सजाया गया है। ग्राहक इस ताबूत में लेटकर अपनी मौत के बाद के पलों की परिकल्पना कर सकते हैं। खास बात यह है कि कुछ मिनट ताबूत में लेटकर ग्राहक पेय पदार्थों पर छूट पा सकते हैं। यहां एक कुर्सी पर कंकाल भी रखा गया है। इसके अलावा इस कैफे के मेन्यू में ‘डेथ’ और ‘पेनफुल’ नाम के ड्रिंक्स हैं।

वहीं, इस कैफे में आने वाले लोग भी यहां जमकर लुत्फ उठा रहे हैं। कुछ लोगों को मानना है कि यहां आकर पता चलता है कि हमारी जिंदगी कितनी छोटी होती है और किसी के साथ कभी भी कुछ भी हो सकता है। जिंदगी के मूल्य को समझने के लिए यह परफेक्ट जगह है। दोंघाताई बूनमोह नाम की 28 वर्षीय महिला ने हंसते हुए इस कैफे के बारे में कहा कि उन्हें ऐसा लग रहा है कि यहां वह किसी के फ्यूनरल में आई हों। हालांकि, कुछ लोग इस रेस्तरां से खास खुश नहीं है, वो इस रेस्तरां से नजरें घुमाकर निकल जाना ही सही समझते हैं।

A post shared by Chaw (@chawcockian) on

A post shared by Lalita (@bvbutter) on

A post shared by iAoy Impitak (@aoy_impitak) on

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App