ताज़ा खबर
 

ऐसी लत कि सुसाइड करने की आई नौबत! महिला ने सुनाई बीमारी से लड़कर जीतने की कहानी

जेस डाउनी ने बारक्रॉफ्ट ने बताया कि सेक्स एडिक्शन काफी कन्फ्यूजिंग होता है और बहुत से लोग ये भी नहीं जानते कि वो सेक्स एडिक्टिड हैं। डाउनी ने कहा कि पहने उन्हें भी नहीं पता था कि वह सेक्स एडिक्टिड हैं।

nymphomaniaनिमफोमेनिया नामक बीमारी में महिलाओं में सेक्स की अनियंत्रित इच्छा होती है, जिसे आमतौर पर सेक्स एडिक्शन कहा जाता है। (image source- barcroft tv/youtube)

अक्सर लोग तनाव या गंभीर परेशानी में घिरकर आत्महत्या की कोशिश करते हैं, लेकिन एक अमेरिका महिला अपनी सेक्स की लत के कारण आत्महत्या करने की स्थिति में पहुंच चुकी थी। जी हां, अमेरिका के टेक्सास की रहने वाली, जेस डाउनी निमफोमेनिया नामक बिमारी से पीड़ित हैं। ऑक्सफॉर्ड डिक्शनरी के अनुसार, निमफोमेनिया नामक बीमारी में महिलाओं में सेक्स की अनियंत्रित इच्छा होती है, जिसे आमतौर पर सेक्स एडिक्शन कहा जाता है। बारक्रॉफ्ट टीवी ने यूट्यूब पर एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें जेस डाउनी की कहानी को दिखाया गया है। वीडियो में जेस ने बताया कि उन्हें 5 साल की छोटी उम्र से ही सेक्स एडिक्शन हो गया था। जेस के बताया कि उसके पिता ने भी उनका यौन शोषण किया। जब जेस अपने इस एडिक्शन के कारण मौत के मुंह में जाने लगी, तब उन्हें इसकी गंभीरता का एहसास हुआ और जेस ने इससे छुटकारे के प्रयास शुरु कर दिए।

जेस डाउनी ने बारक्रॉफ्ट ने बताया कि सेक्स एडिक्शन काफी कन्फ्यूजिंग होता है और बहुत से लोग ये भी नहीं जानते कि वो सेक्स एडिक्टिड हैं। डाउनी ने कहा कि पहने उन्हें भी नहीं पता था कि वह सेक्स एडिक्टिड हैं। डाउनी के अनुसार, उन्हें बस अचानक सेक्स की इच्छा होती थी और वह बस बाहर निकलकर अंजान लोगों से मिलती थी। लेकिन सेक्स करते हुए उन्हें कभी भी अच्छा नहीं लगा और भावनात्मक तौर पर भी संतुष्टि नहीं मिली। डाउनी के अनुसार, जब उनका एडिक्शन बहुत ज्यादा बढ़ गया और इससे उनकी जिन्दगी पर ही खतरा मंडराने लगा, उसके बाद जेस ने इससे उबरने की ठानी। जेस ने एक रिकवरी ग्रुप को ज्वाइन किया, साथ ही खुद भी सेल्फ कंट्रोल से इस बीमारी से पीछा छुड़ाया। इस दौरान वह काफी समय तक सेक्स से दूर रही और नई जगहों पर घूमने गई। कई विशेषज्ञों से सलाह ली। सेक्स एडिक्शन के कारण जेस की नौकरी भी चली गई थी और उन्हें काफी परेशानी का सामना भी करना पड़ा।

जेस ने कहा कि वह शुरुआत में बिल्कुल भी धार्मिक नहीं थी, जिस कारण अपने एडिक्शन के समय वह काफी अकेला और तनावपूर्ण महसूस करती थी। लेकिन धीरे धीरे उनका धर्म की ओर झुकाव हुआ और आज वह पहले के मुकाबले काफी बेहतर महसूस करती हैं। फिलहाल जेस एक सेल्फ डेवलेपमेंट कोच के रुप में काम करती हैं और अन्य लोगों को एडिक्शन से बचाने में मदद करती हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जल में रह कर भी मछली नहीं खाता यह मगरमच्‍छ, मंदिर का प्रसाद खाकर रहता है जिंदा!
2 श्रीलंका के इन जुड़वा गेंदबाजों से ऐसे कन्फ्यूज हुए कि चिल्ला पड़े थे कोहली, रवि शास्त्री ने बताई थी असलियत
3 इस महिला ने 80 शादीशुदा मर्दों से बनाए संबंध, बताई हैरान कर देने वाली वजह
ये पढ़ा क्या?
X