ताज़ा खबर
 

सेक्स लेता है इन सांपों की जान, 8 महीने इंतजार के बाद एक ही मादा पर टूट पड़ते हैं सैकड़ों सांप

सेक्स (सहवास) इंसान के लिए बेहद जरूरी है। यह किसी के लिए प्यार जताने का तरीका है, तो किसी के लिए यह दवा है। यह हमारे लिए जरूरी शारीरिक क्रिया है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही सहवास जान भी ले सकता है।

कनाडा में पाए जाने वाले गार्टर स्नेक्स में नर मादाओं के मुकाबले कम जीते है। इसके पीछे का कारण उनका अधिक सहवास करना होता है। (फोटो सोर्सः यूट्यूब)

सेक्स (सहवास) इंसान के लिए बेहद जरूरी है। यह किसी के लिए प्यार जताने का तरीका है, तो किसी के लिए दवा है। यह हमारे लिए जरूरी शारीरिक क्रिया है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि यही सहवास जान भी ले सकता है। जी हां, अधिक सहवास जान ले लेता है। सांपों (स्नेक्स) के मामले में यह उनकी जीवन अवधि घटा देता है। कनाडा के मैनिटोबा में सांपों की एक प्रजाति पाई जाती है, जिसका नाम है गार्टर स्नेक्स। इन स्नेक्स के शरीर का हिस्सा भूरा-पीला और हल्का लाल (नर) होता है। जबकि मादा की खाल सिर्फ भूरी और पीली होती है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इन नर स्नेक्स की जीवन अवधि मादा के मुकाबले कम होती है। इसका कारण उनका अधिक सहवास करना होता है। ये स्नेक्स सैकड़ों की संख्या में एक मादा पर टूट पड़ते हैं। अतिसक्रिय होकर ये गुच्छे बनाते हैं और फिर उनके साथ सहवास की क्रिया को अंजाम देते हैं। एक मादा पर नर स्नेक्स काफी देर तक लिपटे रहते हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक इन नर स्नेक्स की जीवन अवधि मादा के मुकाबले कम होती है। इसका कारण उनका अधिक सहवास करना होता है।

नर स्नेक्स मादा के मुकाबले जल्दी परिवक्व हो जाते हैं। वे आठ माह तक बिल में रहते हैं। ऐसा बताया जाता है कि ये स्नेक्स बगैर खाए पिए ही बिल में वक्त गुजार सकते हैं। जब वसंत ऋतु आती है, तो वे बाहर निकलते हैं और सहवास में जुट जाते हैं। ऐसा बताया जाता है कि एक मादा गार्टर स्नेक के साथ सैकड़ों नर सहवास करते हैं।

सिडनी यूनिवर्सिटी के क्रिस्टफर फ्रीजेन ने इस बारे में बताया कि मादा स्नेक्स बिल के आसपास ही रहती हैं। एक से तीन दिन तक वे नर स्नेक्स संग सहवास करती हैं। उसमें से बहुत कम ही नर स्नेक्स होते होंगे, जो एक हफ्ता या फिर 21 दिन जी पाते होंगे। तो आइए देखते हैं कैसे  ये स्नेक्स अपनी जीवन अवधि कम कर लेते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App