ताज़ा खबर
 

बकबक करने वाले नहीं, बल्कि इस किस्म के लोग होते हैं ‘इडियट’

इडियट शब्द को आज हम निगेटिव सेंस में लेते हैं। सोचते हैं कि किसी बेकार या गलत चीज के लिए ही इस्तेमाल होता है। अगर आप ऐसा सोचते हैं, तो यह...

जो बक-बक करता हो। फिजूल में पकाता हो। बेमतलब में फालतू बात करता हो, उसे क्या कहेंगे। इडियट। है न, मगर जानते है। इस शब्द का असल मतलब कुछ और होता है। पहले इसके कुछ और मायने होते थे।

इडियट शब्द को आज हम निगेटिव सेंस में लेते हैं। सोचते हैं कि किसी बेकार या गलत चीज के लिए ही इस्तेमाल होता है। अगर आप ऐसा सोचते हैं, तो यह आपकी गलतफहमी है।

आज से काफी साल पहले प्राचीन यूनान में इडियट के कुछ और ही मायने होते थे। वैसे भी यूनान ने विश्व को बहुत कुछ दिया है। मैथ्स, फिलॉसफी, म्यूजिक, आर्ट्स, लिट्रेचर। इसके अलावा उन्होंने हमें मतदान और संसदीय प्रणाली दी।

प्राचीन यूनान में हर राजनेता का जन मामलों में अपना मत और विचार होता था। जिसका नहीं होता था, वह चुपचाप रहता था। तब उसे इडियट कहा जाता था। मने जो लोग सबके सामने जनता से जुड़े मामलों में चुप रहते थे, वे इडियट कहलाते थे। जबकि आज के दौर में इसका उल्टा है। जो ज्यादा बोलता है या बक-बक करता है, उसके लिए इडियट शब्द इस्तेमाल किया जाता है।

खास बात है कि आधुनिक यूनानी भाषा में इडियट के नकारात्मक मायने नहीं हैं। यहां इसका मतलब निजी होता है। मसलन निजी संपत्ति और निजी मामले आदि। अंग्रेजी में सिर्फ इसे गलत मतलब के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App