ताज़ा खबर
 

यहां गंडासा चलाकर दी जाती है मसाज, 2500 रुपए देकर धड़ल्ले से करवाते हैं लोग

मसाज करने का यह तरीका 2500 साल पुराना है जो मूलत: चीन की देन है
वीडियो से लिया गया स्क्रीनशॉट

कुछ लोग फ्रेश होने के लिए टहलने जाते हैं तो कुछ लोग एक कप चाय से रिलैक्स महसूस करते हैं। हालांकि बॉडी के लिए मसाज कराना भी जरूरी है। बाजार में एक नई तरह की मसाज आई है, जिसमें हाथों की जगह चाकू/गंडासे से मसाज की जाती है। ताइवान में मसाज का यह तरीका काफी प्रचलित हो रहा है। यहां पिछले 30 सालों से ह्सियाओ मेई फांग नाम की महिला चाकू से मसाज दे रही है। इस मसाज की शुरुआती कीमत 30 पौंड (करीब 2500 रुपए) है।

फांग ने बताया कि “मसाज करने का यह तरीका 2500 साल पुराना है जो मूलत: चीन की देन है। हालांकि उन्होंने इसे करने का नया तरीका खोजा है। इसमें वो एक की जगह दो चाकुओं/गंडासे का इस्तेमाल करती हैं। इस मसाज के जरिए व्यक्ति के अंदर मौजूद ऊर्जा में परिवर्तन होता है और शरीर हल्का महसूस होता है। उन्होंने बताया कि थेरेपी के लिए किचन वाले चाकुओं का इस्तेमाल नहीं किया जाता। जो चाकू उपयोग में लाए जाते हैं वो बिलकुल सुरक्षित होते हैं। फांग ने बताया कि यह मसाज जीवन-परिवर्तित भी कर सकती है। उन्होंने कहा, “कई लोग इसे मजाक के तौर पर लेते हैं, लेकिन वो जानते नहीं कि इससे जीवन बदल भी सकता है।” फांग ने बताया कि उनके कई ग्राहक इसे लेने के बाद अपने दोस्तों को भी भेजते हैं।

मसाज लेने वाले एक युवक ने कहा, “पहली बार में मैं काफी डरा हुआ था। क्योंकि इन चाकुओं का इस्तेमाल आम तौर पर चिकन या अन्य मांस को काटने में किया जाता है। इसलिए मैं भी उस तरह से कटना नहीं चाहता था। हालांकि जब मैने इस मसाज को लिया तो महसूस किया यह पूरी तरह सुरक्षित और आरामदायक है।” वहीं एक अन्य महिला ग्राहक ने कहा, “ऐसा लगता है मानों शरीर में करंट दौड़ रहा हो। मसाज के बाद बहुत अच्छा लगता है। पहले मुझे सुबह के समय शरीर में दर्द होता था, लेकिन अब सब ठीक है। मेरी कमर को भी आराम मिला है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.