ताज़ा खबर
 

खाना नहीं खा पाती है यह फॉर्मर मॉडल, फिर कैसे रहती है जिंदा

लीसा ने डॉक्टरों को दिखाया, तो गैस्ट्रोवैस्कुलर डिसऑर्डर निकला। इसमें उनका पेट...

जीने के लिए क्या जरूरी है। खाना। है न, लेकिन अगर कोई खाना न खाए तो। मने खाना न खाए पाए, तो क्या वह जिंदा रह सकता है। लीसा ब्राउन (32) इसी सवाल का जवाब हैं। दिखने में सूखी-पाखी यह महिला फॉर्मर मॉडल है। तेजी से वजन में कमी आने के चलते आज वह दुबली-पतली दिखती हैं। उन्हें गैस्ट्रोवस्कुलर डिसऑर्डर है, इसलिए वह सॉलिड खाना भी नहीं खा पाती हैं।

अब आप सोच रहे होंगे कि खाना नहीं खा पाती, तो जिंदा कैसे रहती हैं। दरअसल, इस सवाल का जवाब पाने के लिए आपको लीसा की कहानी जाननी पड़ेगी। अमेरिका में विसकंसिन नाम की जगह है। वहां लीसा हंसी खुशी अपने पति पैट्रिक ब्राउन संग रहती थीं। घूमती थीं, लोगों से मिलती थीं, बतियाती थीं और मॉडलिंग करतीं। 2010 तक सब सामान्य था।

फिर जो हुआ, उसने उनकी जिंदगी बदल दी। अचानक उनका वजन तेजी से कम होने लगा। शुरुआत में उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया। बाद में असर दिखने लगे, तो गौर किया। वह अब काफी दुबली हो चुकी थीं। कपड़े भी ढीले होने लगे। पहले जित्ता खाना भी नहीं खा पातीं। सारे बदलावों से वह हैरान रह गईं।

डॉक्टरों को दिखाया, तो सुपीरियर मैसेंट्रिक आर्टरी सिंड्रोम (गैस्ट्रोवैस्कुलर डिसऑर्डर) नाम की बीमारी निकली। इस बीमारी में उनका पेट खिंच रहा है, जिससे वह सॉलिड खाना नहीं खा पातीं। कई ऑपरेशन भी कराए, लेकिन फलसफा न निकला। अब उनके शरीर में दर्द रहता है। वह दूसरों पर निर्भर रहती हैं। ज्यादातर वक्त घर पर बिताती हैं। यूं कहें तो यह बीमारी उन्हें धीमे-धीमे मौत के मुंह में ले जा रही है।

आप सोच रहे होंगे कि इत्ता सब होने के बाद वह जिंदा कैसे हैं। लीसा सॉलिड खाना नहीं खा पातीं, इसलिए उनके पेट में स्टमक फीडिंग ट्यूब ( पेट में नली) लगाया गया है। इसी की मदद से उनके शरीर में जरूरी न्यूट्रीटिएंट्स पहुंचाए जाते हैं। दिन में तकरीबन 16 घंटे वह बिस्तर पर रहती हैं।

पति पैट्रिक बाउन (32) कहते हैं कि इस बीमारी ने हमारी जिंदगी बदल दी। मैं डरा हूं कि उसकी हालत और न बिगड़े। मैं जिंदगी में कई चीजें ठीक कर सकता हूं, लेकिन इस बीमारी को सही करना मेरे हाथ में नहीं हैं। मैं बस हर पल उसके साथ रहता हूं।

(फोटो सोर्सः बारक्रॉफ्ट)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App