ताज़ा खबर
 

खूंखार कैदियों के साथ जेल में सजा काट रही मादा भालू, इस गुनाह के लिए मिली है उम्रकैद

इस जेल में करीब 739 कुख्यात अपराधी सजा काट रहे हैं। इनमें से कई पर हत्या का आरोप भी है, जिन्हें 25 साल की सजा मिली है। जेल में कात्या के लिए अलग सेल है और उसके लिए स्विमिंग पूल भी है।

यह मादा भालू 15 साल से अपने अपराध की सजा काट रही है। प्रतीकात्मक तस्वीर।

यह मादा भालू खूंखार कैदियों के साथ जेल में बंद है। उसे दूसरे कैदियों से दूर रखा जाता है और वो एक अलग सेल में कैद है। इंसानों के साथ जेल की सजा भुगत रही एक मादा भालू की यह कहानी कजाख्स्तान की है। साल 2004 में इस भालू ने 11 साल के एक लड़के पर हमला कर दिया था और उसके पैरों पर गहरे घाव दिए थे। इसके अलावा उसने 28 साल के व्यक्ति पर हमला कर उसकी हत्या भी कर दी थी। दो लोगों की हत्या के जुर्म में इस भालू पर कोस्ताने की अदालत में केस चला और फिर अदालत ने उसके गुस्सैल स्वभाव को देखते हुए उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी। उस वक्त यहां चिड़ियाघर नहीं था लिहाजा बाद में उसे इंसानों के जेल में डाल दिया गया।

यह मादा भालू करीब 15 सालों से अपने अपराध की सजा काट रही है। सजा होने से पहले यह मादा भालू सर्कस में काम करती थी लेकिन सर्कस के मालिक ने उसे छोड़ दिया था। जेल में इस भालू का नाम इकैटरीना रखा गया। यहां अन्य कैदी उसे कात्या भी कहते हैं। लेकिन 15 साल से सजा काट रही कात्या अब काफी बदल गई है। जानकारी के मुताबिक वो अब काफी शांत स्वभाव की हो गई है और जेल के कैदी उससे मिलने भी आते हैं।

इस जेल में करीब 739 कुख्यात अपराधी सजा काट रहे हैं। इनमें से कई पर हत्या का आरोप भी है, जिन्हें 25 साल की सजा मिली है। जेल में कात्या के लिए अलग सेल है और उसके लिए स्विमिंग पूल भी है। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच जेल के कुछ पहरेदार हमेशा कात्या की निगरानी करते रहते हैं। कात्या की एक मूर्ति भी जेल में बनाई गई है। कात्या किसी नर भालू से समागम नहीं कर सकती इसलिए जेल अधिकारी उसे कृत्रिम गर्भधारण के जरिए मां बनाने की कोशिश में भी जुटे हुए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App