ताज़ा खबर
 

कान से निकलने लगा दिमाग का हिस्सा, हालत देख डॉक्टर्स भी हैरान

करीब एक साल तक यह दर्द झेलने के बाद लोगननाथन ने कुछ दिनों पहले अपोलो अस्पताल में चिकित्सकों से संपर्क किया। डॉक्टरों ने यहां लोगननाथन के कान का सिटी स्कैन कराया जिसकी रिपोर्ट देख कर डॉक्टर भी हैरान रह गए।

प्रतिकात्मक तस्वीर।

क्या कभी किसी इंसान के कान के छेद से मस्तिष्क का हिस्सा बाहर आ सकता है। सुनने में यह बात अजीबोगरीब जरुर लगती है लेकिन यह सच है। ऐसा हुआ है तमिलनाडु के रहने वाले एक शख्स के साथ। तमिलनाडु के चेन्नई में रहने वाले 54 साल के लोगननाथन अक्सर सिर और कान के दर्द से परेशान रहते थे। लोगननाथन एक निजी कंपनी में ऑडिटर के पद पर तैनात हैं। शुरू में उन्होंने इस दर्द को मामूली समझा। हालांकि उन्हें यह एहसास हुआ था कि उनके कान में मांस का कुछ हिस्सा उभरा हुआ है। उन्होंने कई चिकित्सकों से मिलकर अपनी दाईं कान में और सिर में दर्द की बात बताई। डॉक्टरों ने शुरू में संक्रमण का अंदेशा जताते हुए इन्हें दवाईयां भी दीं। लेकिन लोगननाथन का दर्द खत्म नहीं हुआ।

करीब एक साल तक यह दर्द झेलने के बाद लोगननाथन ने कुछ दिनों पहले अपोलो अस्पताल में चिकित्सकों से संपर्क किया। डॉक्टरों ने यहां लोगननाथन के कान का सिटी स्कैन कराया जिसकी रिपोर्ट देख कर डॉक्टर भी हैरान रह गए। डॉक्टरों ने बताया कि उनके कान में एक छेद है और कान के रास्ते से मस्तिष्क का कुछ हिस्सा बाहर आ रहा है। डॉक्टरों ने यह माना कि यह स्थिति एक इंसान के लिए जानलेवा है। इससे गंभीर संक्रमण का खतरा बना रहता है। अस्पताल के डॉक्टरों ने इसके बाद लोगननाथन को ऑपरेशन के लिए राजी किया। अस्पताल के डॉक्टर वर्गीज और उनकी टीम ने करीब 8 घंटे तक चली सर्जरी के बाद कान के रास्ते बाहर आए मस्तिष्क के हिस्से को काट कर अलग कर दिया और कान के छेद को भी बंद कर दिया।

इस सफल ऑपरेशन के बाद लोगननाथन ने कहा कि ‘पहले मुझे अजीबोगरीब आवाजें सुनाई देती थीं। जैसे धड़कन की आवाज। मुझे पता था कि मुझे सर्जरी से गुजरना पड़ेगा। पर, मैं डर रहा था। सर्जरी के बाद अब मैं ठीक हूं। अब मुझे अजीब आवाजें नहीं सुनाई दे रहीं।’ बहरहाल इस शख्स के कान के छेद से मस्तिष्क का हिस्सा बाहर कैसे आया? अभी अस्पताल के डॉक्टर इसपर ज्यादा कुछ नहीं बता पा रहे। उनको संदेह है कि बरसों पहले हुई किसी गंभीर दुर्घटना या फिर कान में संक्रमण की वजह से ऐसा हो सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App