ताज़ा खबर
 

कान में चली गई थी रूई की कली, देखें डॉक्‍टरों ने 10 साल बाद कैसे निकाली

मरीज को पता चला कि उसके कान के सबसे भीतरी हिस्से में एक रुई का टुकड़ा फंसा हुआ है। ये रुई का गोला मरीज के कान में करीब 10 साल से फंसा हुआ था। मजेदार बात ये भी थी कि मरीज को इस बारे में कोई अहसास नहीं था।

मरीज के कान से कुछ इस हालत में निकली रुई। फोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट

हाल ही में इंग्लैंड के लैशिस्टरशायर में एक विचित्र मामला सामने आया है। इस मामले में एक मरीज डॉक्टर के पास बाएं कान से कम सुनाई देने की शिकायत लेकर क्लीनिक में आया था। जब डॉक्टर ने मरीज के कान की जांच की तो हैरान रह गया। मरीज को पता चला कि उसके कान के सबसे भीतरी हिस्से में एक रुई का टुकड़ा फंसा हुआ है। ये रुई का गोला मरीज के कान में करीब 10 साल से फंसा हुआ था। मजेदार बात ये भी थी कि मरीज को इस बारे में कोई अहसास नहीं था।

मरीज अपने बायें कान में दर्द और कम सुनाई देने की शिकायत लेकर लैशिस्टरशायर शहर के ओदबी में स्थित डॉ. नील रायथाथा के क्लीनिक में आया था। डॉक्टर ने जब पूरे मामले की जांच की तो पाया कि मरीज के कान के सबसे भीतरी हिस्से में रूई का टुकड़ा फंसा हुआ है। इस रूई के चारों तरफ भारी मात्रा में इयर वैक्स और गंदगी जमा हो गई है। बाहरी कान से कान के भीतर तक के रास्ते में चारों तरफ इयरवैक्स और ढेर सारे बाल भी समस्या थे।

डॉक्टर के मुताबिक, मरीज के कान में ये रुई करीब 10 सालों से अटकी हुई थी। उस वक्त मरीज को ऐसा लगा था कि जैसे वक्त के साथ ये रुई कान से निकल गई होगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। लंबे वक्त तक रुई कान के भीतर ही पड़ी रही। वहीं पर ये रुई ईयर वैक्स को सोखती रही और एक वक्त बीतने के बाद कठोर होकर श्रवण में बाधा पैदा करने लगी। मरीज के कान में भी दर्द और दबाव महसूस हो रहा था।

डॉक्टर ने मरीज के कान में कैमरा युक्त दूरबीन डालकर रुई की पूरी स्थिति का मुआयना किया। इसके बाद डॉक्टर ने मगरमच्छ के मुंह के आकार वाली चिमटी से डाक्टर ने आराम से कान के पास से उसे खींचना शुरू किया। लगभग 10 सालों से फंसी हुई रुई को निकालते ही आसपास मौजूद इयर वैक्स भी आराम से बाहर निकल गया। डॉ. नील रायथाथा के मुताबिक, मरीजों के कान से विचित्र चीजें निकलना कोई नई बात नहीं है। बहरहाल अब मरीज को पहले से आराम है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App