ताज़ा खबर
 

पिंजड़े में खाना खिलाने घुसी थी, भालू चबा गए लड़की की बांह

क्रिमिनल इनवेस्टिगेश ने अभी तक नहीं बताया है कि हमला कैसे हुआ। इस कैंप में ठीक इसी तरह का हमला 2016 में भी हुआ था। उस वक्त की पीड़ित लड़की भालुओं को खिलाने के लिए भालुओं के बाड़े पर चढ़ गई थी।

प्रतिकात्मक तस्वीर। (फोटो सोर्स-यूट्यूब)

रूस के एक चिड़िया घर में भालूओं को खाना खिलाने गई टूरिस्ट पर दो भालुओं ने हमला कर दिया। इस हमले में लड़की की बायां हाथ काफी जख्मी हो गया। घटना से संबंधिक एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है। यह वाकया तब हुआ जब लड़की एक प्राइवेट चिड़िया घर में घूमने गई थी। लड़की ने पिंजरे में से ही भालुओं को खाना खिलाना चाहा इसी दौरान दो भालुओं ने उस पर एक के बाद एक हमला कर दिया। वीडियो में साफ दिख रहा है कि लड़की पर हमले होने के बाद घास पर पड़ी कराह रही है, जिसमें उसका बायां हाथ काफी बुरी तरह से जख्मी हो गया। हाथ से काफी खून का स्राव भी होता दख रहा है। यह भयावह दुर्घटना रूस के सुदूर पूर्व में ब्लागोवेशचेंस्क के पास ज़ेलेनाया शिविर स्थल के पास की है।

‘साइबेरियन टाइम्स’ की रिपोर्ट के अनुसार, हमले के तुरंत बाद उसे अमूर के लोकल अस्पताल में ले जाया गया। बांह इतना क्षतिग्रस्त हो गया था कि डॉक्टर भी उसकी बायीं भुजा को बचा नहीं पाए। भालुओं के इस तरह के हमले से डॉक्टर भी काफी आश्चर्यचकित थे। मुख्य सर्जन इगोर बोरोडिन ने कहा कि, ‘भालुओं ने लड़की के हाथ पर इतना गंभीर हमला किए हैं कि इसे बचाना मुश्किल था, लिहाजा बायां हाथ को कोहनी के ऊपर से काटना पड़ा।’ लड़की का दायां हाथ पर बड़ा घाव था लेकिन उसे बचाने में डॉक्टर कामयाब रहे। वहीं वीडियो बनाने वाली एक महिला का कहना है कि पीड़ित लड़की पिंजड़े के करीब भी नहीं थी फिर भी उसका ऐसा हाल होना आश्चर्य करता है।


क्रिमिनल इनवेस्टिगेश ने अभी तक नहीं बताया है कि हमला कैसे हुआ। इस कैंप में ठीक इसी तरह का हमला 2016 में भी हुआ था। उस वक्त की पीड़ित लड़की भालुओं को खिलाने के लिए भालुओं के बाड़े पर चढ़ गई थी। नतालिया नामक एक टूरिस्ट ने बताया कि, ‘पीड़ित और उसका समूह हमले से पहले नशे में था।’ इसे हादसा होने के कारणों में से एक माना जा रहा है। जू में मौजूद एक पैरामेडिक ने दावा किया कि उनमें से कोई भी ठीक हालत में नहीं था। नतालिया ने आगे कहा कि ‘मैं अक्सर अपने बच्चों के साथ यहां रहता हूं, और हमने भालू के चारों ओर इन बाड़ को देखा। भालू ने हमें कभी खतरा महसूस नहीं कराया। हमले के बाद चिड़ियाघर को अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App