ताज़ा खबर
 

भारत के इस हिस्से में ‘बदसूरत’ दिखने को नाक पर यूं ठेपियां लगाकर क्यों रहती हैं महिलाएं

1970 से पहले इस जनजाति में यह प्रैक्टिस अपनाई जाती थी। चूंकि तब इनके गांव...

भारत बड़ी ही विविधताओं वाला देश है। आज भी यहां एक से एक अनोखी चीजें देखने को मिलती हैं। ऐसा ही कुछ यहां के अरुणाचल प्रदेश में देखने को मिलता है। यहां आज भी एक ऐसी जनजाति है, जिसमें महिलाएं बदसूरत दिखने के लिए चेहरा खराब कर लेती हैं। वे नाक पर लकड़ी की ठेपियां (प्लग्स) पहनती हैं, सिर्फ इसलिए कि दुश्मन जनजाति का कोई शख्स उन्हें अगवा न कर ले।

यहां जिरो (Ziro) वैली नाम का ग्रामीण हिस्सा है, जिसमें अपातानी (Apatani) जनजाति रहती है। इनका अपना अलग धर्म है। जीने के तौर-तरीके और परंपराएं हैं। ये बाहरी दुनिया से कोई खास मतलब नहीं रखते। सेजरी वायजिंस्की (Cezary Wyszynski) और ब्रिटिश फोटोग्राफर पेटे ऑक्सफोर्ड (Pete Oxford) यहां गए और इन लोगों की जिंदगी के बारे में जान समझ कर आए। उन्होंने इस दौरान यहां के लोगों की तस्वीरें भी अपने कैमरे में कैद कीं। पहली बार वे महिलाओं का ऐसा अंदाज देखकर हैरान रह गए।

पेटे के मुताबिक 70 से पहले इस जनजाति में यह प्रैक्टिस अपनाई जाती थी। चूंकि तब इनके गांव में पड़ोसी जनजातियों के लोग यहां आकर लूट-खसूट मचाते थे। वे इस दौरान अपा तनी जनजाति की महिलाओं को अगवा भी कर लेते थे।

यही चीज ध्यान में रख कर तय किया गया कि महिलाओं की नाक पर लड़की की ठेपियां लगाई जाएं। उनका मानना था कि यह लगाने पर उनकी नाक सुअर जैसी दिखेगी और उन्हें कोई अगवा नहीं करेगा। हालांकि, यह अब खत्म होने की कगार पर है। भारत सरकार इसे गैरकानूनी करार दे चुकी है, लिहाजा 1970 के बाद यह प्रथा नहीं आजमाई गई।

जनजाति का अपना अलग धर्म है, जिसे डोन्यी पोलो (Donyi-Polo) के नाम से जाना जाता है। इसमें यह सूर्य (Donyi) और चंद्रमा (Polo) की पूजा करते हैं। शामानिज्म (Shamanism) में यहां के हर घर में माना जाता है, जिसमें चूजे और अंडों को अच्छी किस्मत लाने और बीमारियां दूर करने के नाम पर बलि चढ़ा दिया जाता है। यह काम यहां गांव के किनारे होता है, जहां आत्माओं से बड़ी चीजों के लिए प्रार्थना की जाती है।

(फोटो सोर्सः Cezary Wyszynski)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App