18 वाक्यों में समझें गीता के 18 अध्यायों का सार 

Map

Nov 28, 2022

rituraj

गलत सोच ही जीवन की एकमात्र समस्या है।

अध्याय 1

Map

सही ज्ञान ही हमारी सभी समस्याओं का अंतिम समाधान है।

अध्याय 2

Map

Source:@iskconinc/Insta

निःस्वार्थता ही प्रगति और समृद्धि का एकमात्र मार्ग है।

अध्याय 3

Map

प्रत्येक कार्य प्रार्थना का कार्य हो सकता है।

अध्याय 4

Map

व्यक्तित्व के अहंकार को त्यागें और अनंत के आनंद का आनंद लें।

अध्याय 5

Map

प्रतिदिन उच्च चेतना से जुड़ें।

अध्याय 6

Map

आप जो सीखते हैं उसे जिएं।

अध्याय 7

Map

अपने आप को कभी मत छोड़ो।

अध्याय 8

Map

अपने आशीर्वाद को महत्व दें।

अध्याय 9

Map

चारों ओर देवत्व देखें।

अध्याय 10

Map

सत्य को जैसा है वैसा देखने के लिए पर्याप्त समर्पण करें।

अध्याय 11

Map

अपने मन को उच्चतर में लीन करें।

अध्याय 12

Map

 माया से अलग होकर परमात्मा से जुड़ो।

अध्याय 13

Map

 एक ऐसी जीवन-शैली जिएं जो आपकी दृष्टि से मेल खाती हो।

अध्याय 14

Map

 देवत्व को प्राथमिकता दें।

अध्याय 15

Map

अच्छा होना अपने आप में एक पुरस्कार है

अध्याय 16

Map

सुखद पर अधिकार चुनना शक्ति की निशानी है।

अध्याय 17

Map

चलो चलें, ईश्वर के साथ मिलन की ओर बढ़ते हैं।

अध्याय 18

Map

अगली वेब स्टोरी के लिए नीचे क्लिक करें

Map