ताज़ा खबर
 

जनसत्ता की पूरी टीम से आप सबको दिवाली और धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं

दियों की रोशनी से जगमगाता त्योहार दिवाली इस साल 30 अक्टूबर को मनाया जाएगा। लेकिन बाज़ारों में इसकी रौनक तो काफी दिन पहले से ही देखने को मिल रही है। घर की सजावट का सामान, मिठाईयां, नए कपड़े, गहने, बर्तन और कई तरह की चीज़ें खरीदने के लिए लोगों की भीड़ दुकानों पर देखी जा सकती है। अगर आप सोचते हैं कि दीवाली सिर्फ एक दिन का त्योहार है तो ऐसा नहीं है बल्कि यह 4 दिन का त्योहार होता है। 28 अक्टूबर को धनतेरस, 29 को नरक चौदसी, 30 को लक्ष्मी पूजन और 31 अक्टूबर को कार्तिक शुद्ध पद्यमी मनाई जाएगी। दिवाली से दो दिन पहले धनतेरस के दिन से ही बाज़ारोेंे में दिवाली की चहल-पहल शुरू हो जाती है। क्योंकि धनतेरस के दिन को खरीददारी के लिए शुभ माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि धनतेरस के दिन कुछ खरीददारी करने से मां लक्ष्मी की कृपा होती है। लेकिन इस बार की दिवाली और भी खास होगी। क्योंकि इस बार लोग चाइनीज़ माल की जगह भारतीय चीज़ों को महत्वता दे रहे हैं। इससे प्रधानमंत्री के मेक इन इंडिया अभियान को भी सफलता मिलेगी। इस साल दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहुर्त 6 बजकर 26 मिनट से 8 बजकर 09 मिनट तक है। शुभ मुहुर्त में पूजा करना अच्छा माना जाता है। बीते कुछ सालों से चाइनीज़ लाइट्स की वजह से लोगों में दियों को लेकर क्रेज़ कम हो गया है। जिस वजह से दिया बनाने वालों का कारोबार ठप्प हो गया है। तो इस बार आप ज़्यादा से ज़्यादा दिये खरीदें और जलाएं और अपने घर के साथ-साथ दूसरों के घरों को भी रोशन करें।

More from this section

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

एंटरटेनमेंट की खबरें, फोटोज , वीडियो के लिए हमें फेसबुकं पर फॉलो करें