आपकी गाड़ी के बीमा का क्लेम किया जा सकता है रिजेक्ट! जानें- क्या हो सकती है वजहें

राकेश कौल। आमतौर पर हम सभी लोग आशा करते हैं कि हमारी मोटर बीमा कंपनी पॉलिसी की अवधि के दौरान किए गए किसी भी दावे की भरपाई करेगी। हालांकि, हम में से ज्यादातर लोग पॉलिसी दस्तावेज नहीं पढ़ते हैं और अपनी पॉलिसी के दायरे और एक्सक्लूजंस (बहिष्करणों) से अनजान रह जाते हैं। ऐसे में बीमा […]

car insurance, motor insurance, auto news
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

राकेश कौल।

आमतौर पर हम सभी लोग आशा करते हैं कि हमारी मोटर बीमा कंपनी पॉलिसी की अवधि के दौरान किए गए किसी भी दावे की भरपाई करेगी। हालांकि, हम में से ज्यादातर लोग पॉलिसी दस्तावेज नहीं पढ़ते हैं और अपनी पॉलिसी के दायरे और एक्सक्लूजंस (बहिष्करणों) से अनजान रह जाते हैं। ऐसे में बीमा का एक दावा इन फाइन प्रिंट्स के आधार पर खारिज किया जा सकता है, जिससे निराशा के साथ वित्तीय नुकसान हो सकता है। यहां कुछ कारण हैं, जिनकी वजह से दावा खारिज हो जाएगा या पूरी तरह से भुगतान नहीं किया जाएगा। आइए जानते हैं:

बीमित घोषित मूल्य (IDV): आईडीवी बीमा खरीदते समय आपके वाहन का मूल्य है। यह वह रकम है, जो आपके वाहन के चोरी होने या कुल नुकसान होने की स्थिति में आपको मिलेगी। यह अत्यधिक अनुशंसा की जाती है कि आप सही आईडीवी प्राप्त करें जो आपके वाहन के बाजार मूल्य की लागत के सबसे करीब है क्योंकि कोई भी कम या अधिक मूल्य भविष्य में दावे को प्रभावित कर सकता है।

नो क्लेम बोनस (एनसीबी): यह पॉलिसी रिन्यूवल के समय बीमा कंपनी द्वारा बीमित व्यक्ति को पॉलिसी वर्ष के दौरान कोई दावा अनुरोध न करने पर दिया जाने वाला एक ईनाम (छूट) है। सीमा के अनुसार (आमतौर पर 20 से 50% के बीच) सटीक एनसीबी प्राप्त करने के लिए सही दावे की स्थिति घोषित करना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि गलत घोषणा से दावे के समय संघर्ष हो सकता है। झूठी एनसीबी घोषणा दावा निपटान पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकती है।

दावे की सूचना में देरी: दुर्घटना होने के बाद, एक समय सीमा होती है जिसके पहले आपको बीमा कंपनी को सूचित करना चाहिए। बीमा कंपनी को सूचित करने में किसी भी तरह की अत्यधिक देरी से दावा खारिज किया जा सकता है। पॉलिसी अनुबंध पॉलिसी धारक को घटना (दुर्घटना) होने पर तुरंत बीमाकर्ता को सूचित करने की सलाह देता है।

बिना लाइसेंस/अमान्य लाइसेंस के ड्राइविंग: वाहन के चालक के पास वैध और प्रभावी लाइसेंस होना चाहिए। उदाहरण के लिए, अगर उसके पास दोपहिया वाहन चलाने का लाइसेंस है, लेकिन कार चलाते समय दुर्घटना हो जाती है, तो दावा अस्वीकार कर दिया जाएगा। लाइसेंस की समय सीमा समाप्त नहीं होनी चाहिए, और यह दुर्घटना की तारीख और समय पर लागू होना चाहिए।

बीमा योग्य ब्याज की कमी: इसका मतलब है कि मालिक अपने नाम पर पंजीकरण और बीमा ट्रांसफर करने में विफल रहा है। ऐसे मामले में अगर आपका वाहन दुर्घटना का शिकार हो जाता है तो बीमाकर्ता द्वारा दावे पर विचार नहीं किया जाएगा, क्योंकि आरटीओ के माध्यम से स्वामित्व का कोई कानूनी ट्रांसफर नहीं होता है। सरल शब्दों में पॉलिसी धारक वाहन का पंजीकृत स्वामी होना चाहिए।

गाड़ी में मॉडिफिकेशन: वाहन में किए गए किसी भी संशोधन जैसे सीएनजी किट, फिटिंग म्यूजिक सिस्टम, एम्पलीफायर इत्यादि को स्थापित करने के लिए बीमाकर्ता को सूचित किया जाना चाहिए और पॉलिसीधारक को अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करके इसे कवर करना चाहिए। अगर आप इन परिवर्तनों की घोषणा नहीं करते हैं, तो आपका दावा खारिज किया जा सकता है।

तथ्यों को गलत पेश करनाः जब आप अपनी पॉलिसी खरीदते हैं, तो आपको अपनी कार की स्थिति, आपके पिछले बीमा इतिहास आदि के बारे में सामने आना पड़ता है। झूठी घोषणा करने से आपकी पॉलिसी अमान्य मानी जा सकती है और इसलिए बीमा कंपनी द्वारा रद्द कर दी जाती है।

बीमा रीन्यूवल न होना: अपनी कार बीमा पॉलिसी को समय पर रीन्यू न करने पर आपकी पॉलिसी लैप्स हो जाएगी। ऐसे में अगर आपकी कार का एक्सीडेंट हो जाता है तो बीमा कंपनी क्लेम पर विचार नहीं करेगी और उसे खारिज कर देगी। सारा खर्चा आपको अपनी जेब से ही उठाना करना होगा।

(नोटः लेखक Edelweiss General Insurance में चीफ डिस्ट्रीब्यूशन ऑफिसर हैं और यहां व्यक्त जानकारी निजी है। किसी भी बीमा पॉलिसी को खरीदने से पहले ऑफर डॉक्यूमेंट को सावधानी से पढ़ लें।)

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट