One Nation-One Health Card से होगा क्या लाभ और कैसे मिलेगा? जानें

हेल्थ कार्ड में मरीजों का डेटा लेने के लिए उनकी सहमति का भी ध्यान रखा जाएगा। हेल्थ कार्ड का इस्तेमाल हेल्थ पासपोर्ट की तरह भी किया जा सकेगा। हेल्थ कार्ड के जरिए आपकी मेडिकल हिस्ट्री की विश्वसनीयता बनी रहेगी जो कि विदेश में इलाज कराने या दूसरे कामों में मदद करेगा।

Prime Minister, Narendra Modi, Digital Health Mission
तस्वीर का उपयोग प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है (फोटो- एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

वन नेशन-वन राशन कार्ड, वन नेशन-वन टैक्स के बाद अब वन नेशन-वन हेल्थ कार्ड की तैयारी सरकार की तरफ से की जा रही है। केंद्र सरकार की तरफ से इसी महीने देशभर में इसे लॉन्च किया जा सकता है। अभी ये योजना अंडमान-निकोबार, चंडीगढ़, दादरा और नगर हवेली, दमन-दीव, लद्धाख और लक्षद्वीप में चल रहा है। पिछले साल 15 अगस्त को प्रधानमंत्री ने इसकी घोषणा की थी।

गौरतलब है कि एक हेल्थ कार्ड में एक व्यक्ति के स्वास्थ्य से जुड़ी सारी जानकारी एक जगह जमा होगी। माना जा रहा है कि सिविल एविएशन क्षेत्र में यह एक तरह से हेल्थ पासपोर्ट के तौर पर काम करेगा। योजना है कि देश के सभी लोगों का हेल्थ से जुड़ा डेटा एक जगह इकट्ठा किया जाएगा। केंद्र सरकार इस डेटा को सुरक्षित रखने के लिए भी काम कर रही है। जानकार बताते हैं कि ब्लॉकचेन के जरिए इस डेटा को सुरक्षित रखा जा सकता है।

विशेषज्ञों की मानें तो अगर देश में कोई एक हिस्से से दूसरे हिस्से में जाकर रहता है और उसकी स्वास्थ्य से जुड़ी जानकारी नेटवर्क में रहती है तो नई जगह पर डॉक्टर उसके डेटा रिकॉर्ड देख सकते हैं। एक हेल्थ कार्ड के जरिए डॉक्टर किसी भी नागरिक की पूरी हेल्थ हिस्ट्री देख सकेंगे। दरअसल, कई बार डेटा रिकॉर्ड सही से ना संभाल कर रखने की वजह से जांच सही से नहीं हो पाती है और डॉक्टर भी आकलन सही से नहीं कर पाते हैं।

हेल्थ कार्ड में मरीजों का डेटा लेने के लिए उनकी सहमति का भी ध्यान रखा जाएगा। हेल्थ कार्ड का इस्तेमाल हेल्थ पासपोर्ट की तरह भी किया जा सकेगा। हेल्थ कार्ड के जरिए आपकी मेडिकल हिस्ट्री की विश्वसनीयता बनी रहेगी जो कि विदेश में इलाज कराने या दूसरे कामों में मदद करेगा।

हेल्थ कार्ड कैसे बनेगा?

  • योजना शुरू होने के बाद आप इस वेबसाइट पर जाकर https://healthid.ndhm.gov.in/register अपनी हेल्थ आईडी खुद भी बना सकते हैं।
  • गूगल प्ले स्टोर पर NDHM हेल्थ रिकॉर्ड ऐप भी उपलब्ध है। आप इस ऐप के जरिए भी हेल्थ आईडी के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।
  • इसके अलावा सरकारी-निजी हॉस्पिटल, हेल्थ सेंट, प्रायमरी हेल्थ सेंटर और कॉमन सर्विस सेंटर पर भी कार्ड बनेंगे।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट