यूपी चुनावः एक नवंबर से घर-घर वोटर लिस्ट का सत्यापन, जानें- कैसे सही होगा गलत पता, फोटो और नाम

ऐसे में अगर आपके घर में कोई युवा हो और उसका नाम मतदाता सूची में न हो या फिर आने वाली पहली जनवरी को वह 18 साल का/की हो रहा/रही हो तब यह अच्छा मौका है।

voter id card, utility news, india news
अपने वोटर कार्ड्स के साथ नई उम्र के मतदाता। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः प्रदीप कुमार)

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले सूबे में मतदाता सूची में नाम दर्ज कराने की मुहिम चालू होने वाली है। एक नवंबर से इस अभियान का आगाज होगा, जिसके तहत घर-घर जाकर बीएलओ वोटर लिस्ट का सत्यापन करेंगे। वोटर लिस्ट में इसके अलावा कोई खामी या गड़बड़ भी दुरुस्त कराई जा सकेगी।

मुख्य निर्वाचन अफसर अजय कुमार शुक्ला ने इस बारे में एक हिंदी अखबार को बताया, “आपत्ति और दावा पहली से 30 नवंबर के बीच किया जा सकता है।” ऐसे में अगर आपके घर में कोई युवा हो और उसका नाम मतदाता सूची में न हो या फिर आने वाली पहली जनवरी को वह 18 साल का/की हो रहा/रही हो तब यह अच्छा मौका है। आप जरूरी दस्तावेजों की मदद से वोटर लिस्ट में उनका नाम जुड़वा सकते हैं।

सूबे के मुख्य निर्वाचन अधिकारी के अनुसार, अगर एक जनवरी 2022 को आपकी उम्र या आपके घर में किसी नए युवा सदस्य की आयु 18 साल या उससे ज्यादा हो रही है, तब आप नए मतदाता के तौर पर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। यही नहीं, अगर आपका पता बदल गया हो या आपने हाल-फिलहाल में घर बदला हो या लिस्ट में गड़बड़ हो तब उसे सही कराया जा सकता है।

वहीं, वोटर लिस्ट में फोटो गलत है या उससे जुड़े डिटेल में गड़बड़ हो, तब इसे भी सही कराया जा सकता है। ये सारे काम एक नवंबर से 30 नवंबर के बीच कराए जा सकते हैं। वोटर हेल्पलाइन/मोबाइल ऐप, voterportal.eci.gov.in, nvsp.in, 1950 मतदाता हेल्पलाइन और मतदाता सहायता केंद्र के जरिए इस बाबत आप मदद पा सकते हैं

दिल्ली में ‘वोटर उत्सव’ के तौर पर मनेगा यह अभियानः दिल्ली की मतदाता सूची में विशेष संशोधन के दौरान एक नवंबर से मतदाताओं के नाम दर्ज करने के लिए जागरूकता संदेशों के प्रचार के लिए शहर में बसों पर पोस्टर लगाए जाएंगे और सोशल मीडिया पर अभियान चलाया जाएगा। चुनाव अधिकारियों ने इसे मतदाताओं के लिए एक महीने तक चलने वाले उत्सव के रूप में मनाने की योजना बनाई है।

इस अभ्यास के दौरान, कोई भी व्यक्ति जिसकी उम्र 1 जनवरी, 2022 को 18 साल हो रही हो या उससे ज्यादा हो तो वे मतदाता के रूप में अपना नाम दर्ज कराने के पात्र होंगे। अंतिम सूची पांच जनवरी को प्रकाशित होगी। दिल्ली मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) कार्यालय इस प्रक्रिया को सुचारू रूप से संचालित करने और किसी भी मतदाता का नाम न छूट पाए, इसे सुनिश्चित करने की तैयारी में लगा है।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट