Aadhaar को ड्राइविंग लाइसेंस से लिंक करना होगा जरूरी, जानें करने का तरीका

अभी यह होता है कि दुर्घटना करने वाला कसूरवार व्यक्ति मौके से भाग जाता है और डुप्लीकेट लाइसेंस हासिल कर लेता है। यह उसको सजा से बचने में मदद करता है। मगर ड्राइविंग लाइसेंस के आधार से जुड़ने के बाद ऐसा करना खासा मुश्किल होगा।

aadhaarतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फाइनेंशियल एक्सप्रेस फोटो)

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार जल्द ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ने को अनिवार्य करेगी। पंजाब के फगवाड़ा में लवली प्रोफेशनल विश्वविद्यालय में 106वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस में प्रसाद ने कहा, ‘हम जल्द एक कानून लाने जा रहे हैं जिसके बाद ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से जोड़ना अनिवार्य होगा।’ उन्होंने कहा, ‘अभी यह होता है कि दुर्घटना करने वाला कसूरवार व्यक्ति मौके से भाग जाता है और डुप्लीकेट लाइसेंस हासिल कर लेता है। यह उसको सजा से बचने में मदद करता है। बहरहाल, आधार से जोड़ने के बाद, आप भले ही अपना नाम बदल लें लेकिन आप बॉयोमीट्रिक्स नहीं बदल सकते हैं। आप ना आंख की पुतली को बदल सकते हैं और ना ही उंगलियों के निशान को। आप जब भी डुप्लीकेट लाइसेंस के लिए जाएंगे तो प्रणाली कहेगी कि इस व्यक्ति के पास पहले से ड्राइविंग लाइसेंस है और इसे नया लाइसेंस नहीं दिया जाना चाहिए।’

जानना चाहिए कि हर राज्य और केंद्र शासित प्रदेश में रोड ट्रांसपोर्ट विभाग ड्राइविंग लाइसेंस जारी करता है। हालांकि ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से लिंक कराने का प्रोसेस एक जैसा ही रहेगा। यहां आपको बताते हैं कि कोई व्यक्ति कैसे अपना ड्राइविंग लाइसेंस आधार से लिंक करा सकता है।

1)- सबसे पहले अपने राज्य/केंद्र शासित प्रदेश के रोड ट्रासपोर्ट डिपार्टमेंट की वेबसाइट पर जाएं-
2)- ‘लिंक आधार’ पर क्लिक करें।
3)- इसके बाद ‘ड्राइविंग लाइसेंस’ वाले विकल्प पर जाएं।
4)- यहां ड्राइविंग लाइसेंस नंबर एंटर करें और ‘गेट डिटेल’ वाले ऑप्शन पर क्लिक करें।
5)- इसके बाद आपके ड्राइविंग लाइसेंस से जुड़ी जानकारी स्क्रीन पर आ जाएगी।
6)- अब अपना 16 डिजिट वाला आधार नंबर और मोबाइल नंबर दिए विकल्प में भरें।
7)- यहां जानने लें कि दर्ज किए जाने वाला मोबाइल नंबर UIDAI से पंजीकृत होना चाहिए।
8)- अब प्रक्रिया पूरी करने के लिए ‘समिट’ बटन पर क्लिक करें।
9)- प्रक्रिया पूरी होने के बाद आपके नंबर पर कन्फर्मेशन मैसेज आएगा।
10)- इस प्रकिया के जरिए देश भर में किसी भी राज्य की वेबसाइट पर ड्राइविंग लाइसेंस को आधार से आसानी से लिंक कराया जा सकता है।

गौरतलब है कि प्रसाद ने कार्यक्रम में केंद्र सरकार के ‘डिजिटल इंडिया’ कार्यक्रम की तारीफ करते हुए कहा कि इसने शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के बीच के फर्क को पाटा है। प्रसाद ने कहा, ‘123 करोड़ आधार कार्ड जारी किए गए, 121 करोड़ मोबाइल फोन हैं, 44.6 करोड़ स्मार्ट फोन हैं, इंटरनेट के 56 करोड़ उपयोगकर्ता हैं। इसके अलावा ई कॉमर्स में 31 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। भारत की आबादी 130 करोड़ है।’ उन्होंने यह भी कहा कि 2017-18 में देश में डिजिटल तरीके से भुगतान करने में कई गुना इजाफा हुआ है। (एजेंसी इनपुट सहित)

Next Stories
1 Jio Phone में 4G hotspot की सुव‍िधा, ऐसे करें इस्‍तेमाल
2 महिला यात्रियों के लिए अच्‍छी खबर! इस ट्रेन में खरीद सकेंगी सैनिटरी पैड
3 20 लाख की रकम तक लें मेडिकल लोन, मेडिकल कार्ड का लाभ, बिना ब्याज EMI से करें भुगतान!
यह पढ़ा क्या?
X