ताज़ा खबर
 

आधार कार्ड में गलत हो गई जन्मतिथि बदलवाना हुआ मुश्किल, जानें नया नियम

अब आधारकार्ड पर एक से ज्यादा बार जन्मतिथि सही कराना आसान नहीं होगा। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) द्वारा जारी एक हालिया अधिसूचना के मुताबिक आधार कार्ड पर जन्मतिथि सही करवाने के लिए आपको रीजनल ऑफिस भी जाना पड़ सकता है।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (facebook/@AadhaarOfficial)

अब आधारकार्ड पर एक से ज्यादा बार जन्मतिथि सही कराना आसान नहीं होगा। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआईडीएआई) द्वारा जारी एक हालिया अधिसूचना के मुताबिक आधार कार्ड पर जन्मतिथि सही करवाने के लिए आपको रीजनल ऑफिस भी जाना पड़ सकता है। अब तक कितनी ही बार आधार कार्ड में जन्मतिथि जैसे सुधार कराने के लिए इसके नामांकन केंद्र पर जाया जा सकता था लेकिन अब ऐसा नहीं है। यूआईडीएआई की अधिसूचना के मुताबिक आधार (नामांकन और अपडेट) रेग्युलेशंस 2016 में एक नया सब-रेग्युलेशन जेड़ा गया है, जो कहता है कि एक बार जन्मतिथि सही कराने के कोई व्यक्ति नामांकन केंद्र पर जा सकता है लेकिन उसके बाद भी एक से ज्यादा बार सुधार की जरूरत पड़ती है तो व्यक्ति को यूआईडीएआई के रीजनल ऑफिस जाना होगा और उसे एक खास प्रक्रिया से गुजरना होगा। जन्मतिथि को साबित करने के लिए व्यक्ति को अनिवार्य दस्तावेजों को भी दिखाना होगा।

यूआईडीएआई ने डाक के जरिये भी आधार डिटेल्स अपडेट कराने की प्रकिया बंद कर दी है। आधार के शुरुआती नामांकन नियमों के मुताबिक यूआईडीएआई ने लोगों को डाक के जरिये भी डिटेल्स अपडेट कराने की अनुमति दी थी। अब यह काम या तो केवल यूआईडीएआई के सेल्फ सर्विस पोर्टल (एसएसयूपी) के जरिये किया जा सकता है या फिर पास के आधार कार्ड नामांकन केंद्र पर जाकर किया जा सकता है। लोगों पर सही निवास प्रमाण पत्र न होने की सूरत में समस्या का समाधान निकालने के लिए यूआईडीएआई ने एक नई सेवा शुरू लॉन्च की है।

पते की पुष्टि के लिए प्रार्थना पत्र जमा करने के बाद संबंधित व्यक्ति के घर पर यूआईडीएआई की तरफ से एक पत्र भेजा जाएगा, जिसमें एक सीक्रेट पिन होगा और उस पिन को आधार के एसएसयूपी पर दर्ज करना होगा। इस सेवा को 1 जनवरी 2019 से पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर एक 1 अप्रैल 2019 से पूरी तरह से लागू करने के लिए प्रस्ताव दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App