Aadhar Card जारी करने वाली संस्‍था UIDAI ने आधार प्रमाणीकरण शुल्क घटाया, अब सिर्फ इतना लगेगा

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) पहचान पत्र व अन्‍य महत्‍वपूर्ण कार्यों के लिए देश में लोगों का आधार कार्ड जारी करता है। अब संस्‍था ने ग्राहकों को बड़ी राहत देते हुए आधार कार्ड प्रमाणीकरण के लिए कीमत घटा दी है। UIDAI ने शुल्क को 20 रुपये से घटाकर 3 रुपये कर दिया है।

आधार कार्ड की प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) पहचान पत्र व अन्‍य महत्‍वपूर्ण कार्यों के लिए देश में लोगों का आधार कार्ड जारी करता है। अब संस्‍था ने ग्राहकों को बड़ी राहत देते हुए आधार कार्ड प्रमाणीकरण के लिए कीमत घटा दी है। UIDAI ने शुल्क को 20 रुपये से घटाकर 3 रुपये कर दिया है। भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण का मानना है कि इससे लोगों को सरकार द्वारा दी जा रही विशिष्‍ठ योजनाओं का लाभ पहुंचेगा। साथ ही लाभों के माध्यम से लोगों को जीवन में आसानी प्रदान करने व संस्थाओं को अपने बुनियादी ढांचे का लाभ उठाने में सक्षम बनाने के लिए इस शुल्‍क में बदलाव किया गया है।

यूआईडीएआई के सीईओ सौरभ गर्ग ने कहा कि वित्तीय प्रौद्योगिकी क्षेत्र में आधार का लाभ उठाने की अपार संभावनाएं हैं। “हमने प्रति प्रमाणीकरण 20 रुपये से घटाकर 3 रुपये कर दिया है और इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि विभिन्न एजेंसियां, संस्थाएं डिजिटल बुनियादी ढांचे की शक्ति का उपयोग करने में सक्षम हों। उन्‍होंने कहा कि अब तक आधार प्रणाली का उपयोग करके 99 करोड़ से अधिक ई-केवाईसी किए जा चुके हैं। गर्ग ने कहा, “मुझे लगता है कि यह फिनटेक कंपनियों को नए ग्राहकों को जोड़ने के लिए एक लागत प्रभावी और गैर-अस्वीकार्य समाधान देता है।”

यह भी पढ़ें: Mahindra XUV 700 की लॉन्चिंग से पहले ही लीक हो गया दाम और वेरियंट, ये हैं डिटेल्स

UIDAI ने यह किया था बदलाव
इस महीने के शुरुआत में ही यूआईडीएआई ने कुछ बदलावों की घोषणा की, जिसके तहत कार्डधारक, जिनका आधार कार्ड से पंजीकृत मोबाइल नंबर नहीं है, वे अपने आधार कार्ड को वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं। UIDAI के अनुसार इस सुविधा से उन कार्डधारकों की भी मदद मिलेगी, जिनके पास दस्तावेज़ डाउनलोड करने में मोबाइल फोन या कंप्यूटर नहीं है।

यह भी पढ़ें: क्या है IPO और कैसे खरीदा जाता है? जानिए

बता दें कि पिछले हफ्ते, दूरसंचार विभाग (DoT) ने केवाईसी प्रक्रियाओं को लागू करने के लिए कई आदेश जारी किए। दूरसंचार विभाग ने कहा कि सुधारों को केवाईसी प्रक्रियाओं को डिजिटाइज करने और ग्राहक अधिग्रहण को पूरी तरह से ऑनलाइन करने के लिए लाया गया है। ऑनलाइन सेवा वितरण हाल के दिनों में एक स्वीकार्य मानदंड बन गया है और अधिकांश ग्राहक सेवाओं को ओटीपी प्रमाणीकरण के साथ इंटरनेट के माध्यम से पेश किया जा रहा है। दूरसंचार विभाग ने एक बयान में कहा, कोविड युग में ग्राहकों की सुविधा और व्यापार करने में आसानी के लिए संपर्क रहित सेवाओं को बढ़ावा देने की आवश्यकता है।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट