ताज़ा खबर
 

कल 1 सितंबर: ध्यान रखें ये 7 बातें, आपकी जिंदगी पर भी पड़ सकता है असर

किसी चीज में आपके लिए फायदे-सुविधाएं हैं, तो कहीं पर आपकी जेब पर बोझ बढ़ सकता है। कुल मिलाकर कहें तो इन चीजों को आप नजरअंदाज नहीं कर सकते।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फाइल फोटो)

कल एक सितंबर 2018 (शनिवार) है। नए महीने के साथ कुछ नई चीजें होंगी, जो सीधे तौर पर आपकी जिंदगी से जुड़ी हैं। किसी चीज में आपके लिए फायदे-सुविधाएं हैं, तो कहीं पर आपकी जेब पर बोझ बढ़ सकता है। कुल मिलाकर कहें तो इन चीजों को आप नजरअंदाज नहीं कर सकते। आइए जानते हैं कि वे कौन से बदलाव या नई चीजें हैं, जिनके बारे में आपको ध्यान देना जरूरी है।

बाइक-कार इंश्योरेंस: सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर इंश्योरेंस रेग्युलेट्री एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (आईआरडीएआई) ने नई गाड़ियों और दोपहिया वाहनों के लिए लॉन्ग टर्मइंश्योरेंस कवर को अनिवार्य कर दिया है। आईआरडीएआई ने सभी जनरल इंश्योरेंस कंपनियों से इस कवर को एक सितंबर से प्रभाव में लाने का निर्देश भी दे दिया है। ऐसे में एक तारीख से जो कोई भी नई कार या बाइक लेगा, उसे तीन साल और पांच साल का इंश्योरेंस कवर एक साथ लेना पड़ेगा। मतलब लॉन्ग टर्म के लिए जो इंश्योरेंस पॉलिसी का प्रीमियम जाएगा, उसके कारण नई कार-बाइक की कीमत भी अधिक हो सकती है। हालांकि, लोगों को हर साल इंश्योरेंस रीन्यू कराने से राहत मिलेगी।

इंडियन पोस्ट पेमेंट्स बैंकः देश के पहले इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) भी शुरुआत भी एक तारीख से होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस सुविधा का श्रीगणेश करेंगे, जबकि केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा इसकी मंगलौर स्थित शाखा और पांच एक्सेस प्वॉइंट्स का उद्घाटन करेंगे। संचार मंत्री मनोज सिन्हा के मुताबिक, आईपीपीबी की हर जिले में कम से कम एक शाखा होगी। देश के कोने-कोने तक इसे पहुंचाने के लिए पोस्ट विभाग के डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क का प्रयोग किया जाएगा। यह सेवा मुख्य रूप से ग्रामीण इलाकों के लोगों को वित्तीय सेवाएं मुहैया कराएगी।

रेल ट्रैवल इंश्योरेंसः रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, भारतीय रेलवे केटरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन (आईआरसीटीसी) ने यात्रियों को मुफ्त में मिलने वाला रेल ट्रैवल इंश्योरेंस एक सितंबर से बंद करने का फैसला किया है। यात्रियों के लिए एक तारीख से यह सुविधा वैकल्पिक होगी। आईआरसीटीसी की वेबसाइट-ऐप से टिकट बुकिंग के वक्त यात्रियों को यह विकल्प चुनने को मिलेगा। अगर कोई यह सुविधा चुनेगा, तो उसे इसके लिए अलग से कीमत चुकानी पड़ेगी। तभी इंश्योरेंस का लाभ मिलेगा, जबकि पुरानी व्यवस्था में टिकट के साथ 10 लाख रुपए तक इश्योरेंस हर यात्री को मिलता था। चाहे यात्री ट्रैवल इंश्योरेंस चुने या न चुने।

आईटीआर डेडलाइनः सरकार ने इनकम टैक्स रिटर्न (आईटीआर) भरने की आखिरी तारीख बढ़ाकर 31 अगस्त की। फिर भी जो लोग यह काम नहीं करेंगे या इसमें दी गई समयसीमा से अधिक देरी करेंगे, तो आयकर विभाग उन पर 10 हजार रुपए तक जुर्माना लगाएगा। करदाता की कुल वार्षिय आय पांच लाख रुपए से कम है, तो जुर्माना 10 हजार से कम रहेगा। जनवरी 2019 के बाद आईटीआर भरने पर 10 हजार रुपए जुर्माना चुकाना पड़ेगा।

5 दिन बैंक सेवाओं पर असरः बैंक से जुड़े कामों पर भी सिंतबर के शुरुआती पांच दिनों में असर पड़ेगा। कारण- साप्ताहिक छुट्टियां, त्योहार की छुट्टियां और भारतीय रिजर्व बैंक के अधिकारियों की हड़ताल है। बैंक का कामकाम इन दिनों आंशिक रूप से प्रभावित होगा। सितंबर की शुरुआत इस साल शनिवार से हो रही है। हालांकि, बैंक पहले शनिवार खुलते हैं। पर कुछ राज्यों में बैंक इस दिन बंद रहते हैं। वहीं दो तारीख को रविवार है, जबकि तीन को जन्माष्टमी है। ये दो दिन भी बैंक बंद रहेंगे। चार और पांच सितंबर को यूनाइटेड फोरम ऑफ रिजर्व बैंक ऑफिसर्स एंड एंप्लाई (यूएफआरबीओई) के सदस्य विभिन्न मांगों को लेकर छुट्टी पर जा रहे हैं। अगर ऐसा हुआ, तो दो दिन और बैंकों का काम-काज प्रभावित रहेगा।

रेलवे में खाने के बिलः रेलवे स्टेशन पर खाने-पीने के स्टाल्स पर अब एक तारीख से बिल भी मिलेगा। सेंट्रल रेलवे ने रेलवे स्टेशनों पर खान-पान के स्टॉल संचालकों को प्वॉइंट ऑफ सेल (पीओएस) या इलेक्ट्रॉनिक बिलिंग मशीन से बिल देने का आदेश दिया है। यानी अब समोसे से लेकर वड़ा पाव व चिप्स के पैकेट तक खरीदने पर भी आप दुकानदार से बिल मांग सकते हैं। हालांकि, यह व्यवस्था एक साथ पूरे देश में लागू होगी या नहीं, इस बारे में किसी प्रकार का स्पष्टीकरण नहीं आया है। स्टॉल पर अगर कोई बिल देने से मना करेगा, तो ग्राहक को उस स्थिति में खाने के सामान के पैसे नहीं देने चाहिए। ग्राहक जीआरपी पुलिस और आईआरसीटीसी से शिकायत भी कर सकता है।

‘प्रभावी’ होगी तंबाकू उत्पादों पर चेतावनी: एक सितंबर से तंबाकू उत्पादों पर दी जाने वाली चेतावनी पहले के मुकाबले और बड़ी व प्रभावी नजर आएगी। सिगरेट हो या बाकी तंबाकू उत्पादों के डिब्बे-पैकेट, सब पर चित्रात्मक तस्वीरें और टेक्स्ट मैसेज होंगे। ये तस्वीरें और टेक्स्ट पैकिंग के तकरीबन 80 फीसद हिस्से को कवर करेंगे। साथ ही उन पर तंबाकू उत्पादों का सेवन न करने की चेतावनी भी लिखी होगी, जिसमें- ‘तंबाकू दर्दनाक मौक का कारण बनता है’ और ‘तंबाकू से कैंसर होता है’ लिखा मिलेगा। उत्पादों के पैकेट पर इसके अलावा क्विट लाइन नंबर भी होगा। यह नेशनल टोल फ्री नंबर है, जिस पर कोई भी फोन कर सिगरेट या तंबाकू उत्पाद की लत को छोड़ने के बारे में काउसिलिंग ले सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App