scorecardresearch

बजट में लॉन्‍च हुई स्‍वैपेबल तकनीक वाली ये दो Electric Scooters, रेंज और बैटरी भी हैं दमदार

भारत में दो स्‍टालिश और स्‍वैपेबल तकनीक वाले इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स को लॉन्‍च किया गया है। इन इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स की कीमत आपके बजट के अनुसार हो सकती है। साथ ही इसकी रेंज भी 110 किलोमीटर प्रति घंटे का है।

Poise Electric Scooters in India
Poise Electric Scooters in India: स्‍वैपेबल बैटरी तकनीक के साथ लॉन्‍च हुए दो नए इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स, जानें प्राइज और फीचर्स (फोटो सोर्स- Poise)

भारत में दो नए इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स को स्‍टाइलिश लुक के साथ पेश किया है। यह दो इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स (Electric Scooters) नई स्‍वैपेबल तकनीक के साथ पेश किया गया है। Poise कंपनी के दो इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स Poise NX और Poise Grace स्‍वैपेबल बैटरी तकनीक के साथ लॉन्‍च हुए हैं। इस तकनीक से स्‍कूटर्स से बैटरी को निकालकर अपने घर के प्‍लग से भी चार्ज कर सकते हैं। इनकी कीमत एक्‍स शोरूम के अनुसार अलग- अलग दी गई हैं। आइए जानते हैं कीमत से लेकर पूरी डिटेल्‍स।

Poise इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स की कीमत
Poise कंपनी के एनएक्‍स-120 वेरिएंट वाले इलेक्ट्रिक स्‍कूटर की कीमत एक्‍स शोरूम कर्नाटक के अनुसार, 1 लाख 24 हजार रुपये है। वहीं Poise Grace की कीमत की बात करें तो यह 1.04 लाख की कीमत में एक्‍स शोरूम से लिया जा सकता है। हालाकि इसकी प्राइज राज्‍य के सब्सिडी देने के बाद और कम हो जाएंगी।

रेंज और टॉप स्‍पीड
Poise का दावा है कि ये दोनों इलेक्ट्रिक स्‍कूटर्स की रेंज 110 किलोमीट सिंगल चार्ज में है। जबकि इसके टॉप स्‍पीड की बात करें तो यह 55 किलोमीटर प्रति घंटे की है। वहीं कंपनी Zuinki हाई स्पीड इलेक्ट्रिक स्‍कूटर पर भी काम कर रहा है, जो 90 किलोमीटर प्रति घंटे की स्‍पीड देगी। इन स्‍कूटरों को बेंगलुरु स्‍थ‍ित यशवंतपुर में बनाया जा रहा है।

1 लाख यूनिट तैयार करने का लक्ष्‍य
ईवी कंपनी का दावा है कि वह 30,000 इलेक्ट्रिक वाहनों को तैयार कर चुका है और आने वाले साल में 1 लाख और इलेक्ट्रिक वाहन तैयार करेगा। कंपनी का कहना है कि इस दौरान भारत के अनुसार, तकनीक, बजट और फीचर्स का भी ध्‍यान रखा जाएगा। निसिकी तकनीक के मैनेजिंग डायरेक्‍टर, विठल बलेंडर का कहना है कि भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण में बड़ी क्रांति, सस्‍ते दाम, खास फीचर्स और आधुनिक तकनीक के माध्‍यम से लाएंगे।

लिथियम आयन बैटरी को रिसाइकिल
कंपनी का लक्ष्‍य लिथियम आयन बैटरी को भी रिसाइकिल करके तैयार करने की भी योजना है। ताकि इसे यूज के बाद भी रिसाइकिल करके उपयोग में लाया जा सके। यह बैटरी कम बजट के साथ ही लंबे समय तक टिकने वाली बनाई जा सकती है। कंपनी के मैनेजर पारस बलेंडर का कहना है कि इस तकनीक को हम सक्रिय रूप से तैयार कर रहे हैं और यह भी जानते हैं कि इसे भारत में कैसे बनाया जाएगा।

पढें यूटिलिटी न्यूज (Utility News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X