ताज़ा खबर
 

मिलावटी है आपका दूध, घी या कॉफी? घर बैठे आसानी से यूं लगाएं पता

खाने को लेकर लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआई) ने हाल ही में डिटेक्ट अडल्ट्रेशन विथ रैपिड टेस्ट (डीएआरटी) बुकलेट जारी की है। यह बुकलेट ऑनलाइन उपलब्ध है, जिसमें रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाले खाद्य पदार्थ शामिल हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

लोकसभा में पिछले साल मिलावटखोरी को लेकर कुछ चौंकाने वाली जानकारी दी गई थी। दावा किया गया था कि हर तीन में दो भारतीय मिलावट वाला दूध पीते हैं। इस दूध में डिटरजेंट, कॉस्टिक सोडा, यूरिया और पेंट जैसी चीजें मिलाई जाती हैं। ऐसे में खाने-पीने के सामान में मिलावट का डर होना आम बात है। अगर आप भी अपने यहां दूध, घी, कॉफी और हरी सब्जियों में मिलावट होने को लेकर घबराते हैं, तो यह खबर आपके काम आ सकती है। खाने-पीने के सामान में होने वाली मिलावट के बारे में अब आप घर बैठे पता लगा सकते हैं।

दरअसल, खाने को लेकर लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एफएसएसएआई) ने हाल ही में डिटेक्ट अडल्ट्रेशन विथ रैपिड टेस्ट (डीएआरटी) बुकलेट जारी की है। यह बुकलेट ऑनलाइन उपलब्ध है, जिसमें रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाले खाद्य पदार्थ शामिल हैं। बुकलेट में बताया गया है कि कैसे घर बैठे कुछ आसान से टेस्ट के जरिए पता लगाया जा सकता है कि खाद्य पदार्थों में मिलावट की गई है या नहीं।

दूध में पानीः बुकलेट के अंदर दूध में मिलावट का पता करने के लिए तीन तरह के टेस्ट्स बताए गए हैं। दूध में पानी है या नहीं, यह पता लगाने के लिए चिकने स्थान पर दूध की बूंद गिराएं। साफ दूध या तो उसी जगह रहेगा या अपने पीछे हल्की सी धार छोड़ते हुए आगे बढ़ेगा, जबकि पानी की मिलावट वाला दूध तुरंत इधर-उधर बहेगा और उसकी बूंद के पीछे धार भी नहीं होगी।

दूध में डिटरजेंटः दूध में डिटरजेंट है या नहीं? इस बात का पता लगाने के लिए एक बोतल में थोड़ा दूध ले लें। फिर उतनी ही मात्रा में उसमें पानी मिलाएं। बोतल को इसके बाद हिलाएं। अगर दूध में डिटरजेंट होगा, तो अलग से जमा-जमा नजर आएगा, जबकि बोतल शेक करने के बाद बगैर मिलावट वाले दूध की पतली सी लेयर (झाग जैसी) नजर आने लगेगी।

घी में स्टार्चः एक चम्मच घी में आयोडीन के घोल की कुछ बूंदें डालें। अगर घी का रंग नीला पड़ने लगे, तो समझ जाएं कि उसमें आलू जैसा स्टार्च मिला है।

मिर्च पाउडर में धूलः एक पानी में थोड़ा सा मिर्च पाउडर निकाल लें। अगर उसमें मिलावट की गई होगी, तो धूल या मिलावट वाले कण पानी में ऊपर आकर तैरने लगेंगे।

कॉफी पाउडर में मिट्टीः एक कांच के गिलास पानी में एक चम्मच कॉफी निकाल लें। पांच मिनट तक उसे रखा रहने दीजिए। अगर उसमें मिलावट होगी, तो वह मिट्टी के कण आपको गिलास की पेंदी में नीचे साफ नजर आएंगे।

सब्जियों में डाईः मिर्च और मटर समेत कुछ अन्य हरी सब्जियों में डाई मिलाई जाती है। अगर आपको भी इस बात का शक है, तो रुई ले लें। फिर उससे तेल में डुबोएं और आगे मिर्च पर रगड़ें। अगर रुई का रंग हरा हो जाए, तो समझ जाएं कि कुछ गड़बड़ है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App