प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में पंजीकरण कराने वाले किसानों की संख्या घटी, आवेदन बढ़े; जानें- कौन कैसे पा सकता है कितना लाभ?

PMFBY के तहत खरीफ 2018 में 2.16 करोड़ किसान औ 2021 में घटकर 1.50 करोड़ किसानों ने पंजीकरण कराया था। इस हिसाब से पंजीकरण में 30 प्रतिशत की गिरावट आई है। हालांकि किसानों की ओर से आवेदनों की संख्या बढ़ी है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में पंजीकरण कराने वाले किसानों की संख्या घटी, आवेदन बढ़े (File Photo)

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) के तहत पंजीकरण कराने वाले किसानों की संख्या में खरीफ मौसम 2018 की तुलना में 2021 में करीब 30 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। कृषि व किसान मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार PMFBY के तहत खरीफ 2018 में 2.16 करोड़ किसान औ 2021 में घटकर 1.50 करोड़ किसानों ने पंजीकरण कराया था। इस हिसाब से पंजीकरण में 30 प्रतिशत की गिरावट आई है। हालांकि किसानों की ओर से आवेदनों की संख्या बढ़ी है।

खरीफ 2019 की बात करें तो इसमें दो करोड़ किसानों ने प्रधानमंत्री फसल बीमा में पंजीकरण कराया था जबकि 2020 में 1.67 करोड़ किसानों ने पंजीकरण कराया था। रबी 2018 में 1.46 करोड़ किसानों ने पीएमएफबीवाई योजना में पंजीकरण कराया था जबकि 2019 में 96.60 लाख किसान तथा रबी मौसम 2020 में 99.95 लाख किसानों ने पंजीकरण कराया था। बता दें कि पुरानी फसल बीमा योजनाओं में सुधार के साथ प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) की शुरुआत 2016-17 में हुई थी। इसका मकसद किसानों तक योजना का लाभ उचित तरीके से समय पर पहुंचाना है।

PM Fasal Bima Yojana
इस योजना के तहत देश के किसानों को किसी प्राकृतिक आपदा के कारण होने वाले फसल के नुकसान पर इंश्योरेंस कवर प्रदान किया जाता है। इसके योजना में नुकसान के आधार पर नुकसान राशि का भुगतान किया जाता है। पीएम फसल बीमा योजना में अलग- अलग फसल पर अलग- अलग प्रीमियम दिया जाता है। इस योजना के अंतर्गत क्लेम रेश्यो 88.3 प्रतिशत है। देय बीमा राशि का प्रतिशत खरीफ के लिए 2.0%, रबी के लिए 1.5% व वार्षिक वाणिज्यिक एवं बागवानी फसलों के लिए 5% दिया जाता है।

यह भी पढ़ें: PMAY-G के तहत PM मोदी ने 1.47 लाख से अधिक इन लाभार्थियों के खातों में ट्रांसफर की पहली किस्त, जानें- कैसे कर सकते हैं चेक

किसे मिल सकता है योजना का लाभ
इस योजना के तहत देश के सभी किसान पात्र हो सकते हैं। इस योजना के तहत आप अपनी ज़मीन पर की गई खेती का बीमा करवा सकते है। साथ ही रेहन ली गई जमीन पर भी बीमा करा सकते हैं। पीएम किसान बीमा योजना का लाभ देश के उन किसानों को दिया जाता है, जो पहले से इस योजना या अन्‍य बीमा योजना के लाभर्थी न हों।

जरुरी दस्‍तावेज
पीएम फसल बीमा योजना के लिए किसान का आई डी कार्ड, आधार कार्ड, राशन कार्ड, बैंक खाता, किसान का एड्रेस प्रूफ (जैसे ड्राइविंग लाइसेंस ,पासपोट, वोटर ID कार्ड ), अगर खेत किराये पर लेकर खेती की गयी है तो खेत के मालिक के साथ इकरार की फोटो कॉपी, खेत का खाता नंबर /खसरा नंबर के पेपर, आवेदक का फोटो, किसान द्वारा फसल की वुआई शुरू किए हुए दिन की तारीख देना होता है।

ऑनलाइन कैसे करें आवेदन
ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आपको पीएम किसान बीमा की अधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद यहां रजिस्‍ट्रेशन कर अकाउंट बनाना होगा। अकाउंट बनने के बाद आपको अपने फसल के बीमा के लिए फॉर्म भरना होगा।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
बैंक या फोन से आधार नंबर जोड़ना है तो ध्‍यान रखें ये बातें, वरना साफ हो सकता है खाते में जमा पैसा