ताज़ा खबर
 

Aadhar की जानकारी छिपाई तो नहीं मिलेगा TDS में छूट का फायदा, CBDT का फैसला

सीबीडीटी के मुताबिक अगर इस छूट का लाभ लेना है तो टैक्सपेयर्स का इनकम टैक्‍स विभाग में आधार और पैन को अपडेट किया जाना जरूरी है।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

कोरोना संकट के चलते केंद्र सरकार ने 20 लाख के आर्थिक पैकेज के तहत कई घोषणाएं की हैं। सरकार ने एमएसएमई, एनबीएफसी और टेक्सपेयर्स को बड़ी राहत दी है। संकट की इस घड़ी में टैक्सपेयर्स के हाथों में ज्यादा पैसा रहे इसके स्रोत पर कर कटौती यानी टीडीएस और टीसीएस (स्रोत पर कर संग्रह) में 25 फीसदी की भारी कटौती की गई है। अब 10 फीसदी की जगह 7.5 फीसदी टैक्स ही लगेगा। कोई भी नॉन-सैलरीड इनकम टीडीएस के दायरे में आती है, अब उस पर घटी दर से टैक्‍स कटेगा।

इस छूट का फायदा तभी मिलेगा जब टैक्सपेयर्स आधार और पैन की डिटेल भी साझा करेंगे। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने इस बारे में नोटिफाई भी कर दिया है। यानी कि ऐसे टैक्सपेयर्स जो कि आधार और पैन की जानकारी साझा नहीं करेंगे उन्हें इस छूट का लाभ नहीं दिया जाएगा। सीबीडीटी के मुताबिक अगर इस छूट का लाभ लेना है तो टैक्सपेयर्स का इनकम टैक्‍स विभाग में आधार और पैन को अपडेट किया जाना जरूरी है।

बता दें कि टीडीएस में यह कटौती सैलरी पाने वाले लोगों पर लागू नहीं है। 14 मई से टीडीएस और टीसीएस की नई दरें लागू हुई हैं और यह 31 मार्च 2021 तक प्रभावी रहेंगी। सरकार ने जानकारी दी है कि टीडीएस कटौती से लोगों को 55 हजार करोड़ का लाभ होगा।

मालूम हो कि टीडीएस आयकर का एक हिस्सा होता है और इसका मतलब होता है ‘टैक्स डिडक्टेड ऐट सोर्स यानी ’ यानी स्रोत पर कर कटौती। यानी सरकार इसके जरिए इनकम के सोर्स पर ही टैक्स काट लेती है। सैलरी, किसी निवेश पर मिले ब्याज या कमीशन आदि पर टीडीएस काटा जाता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अब इन कर्मचारियों को भी मिल सकेंगी ESIC के तहत स्वास्थ्य सुविधाएं, सरकार ने किया इंतजाम
2 IRCTC: लॉकडाउन के दौरान हर दिन चलेंगी स्‍पेशल ट्रेन, ऐसे बुक करें ऑनलाइन टिकट
3 LIC की आधार शिला पॉलिसी में रोजाना 28 रुपये का निवेश कर पाएं 3 लाख 97 हजार, जानें क्या है ये स्कीम