scorecardresearch

SBI और Axis बैंक ने दी ये अहम जानकारियां, आप पर इसका सीधा असर

इंस्टेंट लोन मोबाइल एप्लीकेशन के जरिए ग्राहकों से ठगी के मामले सामने आए हैं। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने भी बीते दिनों इस संबंध में सभी बैंक ग्राहकों को अलर्ट किया था।

SBI और Axis बैंक ने दी ये अहम जानकारियां, आप पर इसका सीधा असर
बैंक में खड़े ग्राहक।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) और एक्सिस बैंक ने अपने ग्राहकों को अहम जानकारियां दी हैं। देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई ने ग्राहकों को इंस्टेंट लोन मोबाइल एप्लीकेशन के चंगुल में फंसने से सावधान किया है। बैंक ने अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल के जरिए कहा है कि ग्राहक इस तरह के ऑफर्स के चंगुल में आने से बचें क्योंकि वे 5 मिनट में लोन देने के नाम पर ठगी के शिकार हो सकते हैं।

एसबीआई के मुताबिक ग्राहक अनधिकृत लिंक पर क्लिक न करें और अपने बैंक खाते से जुड़ी पर्सनल जानकारियों को किसी के साथ बेवजह साझा करने से बचें। लोन लेने से पहले ऑफर के नियम और शर्तें जांच लें। दरअसल इंस्टेंट लोन मोबाइल एप्लीकेशन के जरिए ग्राहकों से ठगी के मामले सामने आए हैं।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने भी बीते दिनों इस संबंध में सभी बैंक ग्राहकों को अलर्ट किया था। बैंक के मुताबिक इनके जरिए लोन लेने पर आपके दस्तावेज के साथ फर्जीवाड़ा हो सकता है और आपकी ऊंची दर पर ब्याज देना पड़ सकता है। इसके साथ ही लोन न चुका पाने की स्थिति में आपसे जबरन गलत व्यव्हार किया जा सकता है।

वहीं बात करें एक्सिस बैंक की तो अब ग्राहकों को मैच्योरिटी से पहले फिक्सड डिपॉजिट (एफडी) तोड़ने पर भी पेनल्टी नहीं देनी होगी। सभी एफडी और रेकरिंग डिपोजिट पर यह नियम लागू कर दिया गया है।

हालांकि दो साल से ज्यादा समय सीमा वाले नए डिपॉजिट पर पेनल्टी नहीं लगेगी। बैंक के मुताबिक रिटेल टर्म डिपोजिट के समय से पहले बंद हो जाने पर पेनल्टी नहीं लगेगी। यह छूट 15 दिसंबर 2020 के बाद जारी सभी एफडी और आरडी स्कीम पर लागू होगी।

पढें यूटिलिटी न्यूज (Utility News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.