ताज़ा खबर
 

PPF में पैसा जमा करवाने वालों को मिला है 12% तक का ब्याज! जानिए कब

PPF Latest News, PPF News: 1968 में लॉन्च हुई PPF स्कीम मशहूर छोटी बचत स्कीम्स में से एक है। 1968 से 1969-70 तक इस पर ब्याज दर 4.8 प्रतिशत का था।

सांकेतिक तस्वीर।

PPF Latest News, PPF News: नौकरी के दौरान पैसे बचाने के लिए PPF बचत स्कीम काफी मददगार होती है। सरकार द्वारा लगाए गए ब्याज दर के हिसाब से इस बचत राशि पर ब्याज मिलता है। 1968 में लॉन्च हुई PPF स्कीम मशहूर छोटी बचत स्कीम्स में से एक है। 1968 से 1969-70 तक इस पर ब्याज दर 4.8 प्रतिशत का था। इसके बाद इस स्कीम पर मिलने वाली ब्याज दर धीरे-धीरे बढ़ने लगा। साल 1986-2000 के दौरान ब्याज दर 12 प्रतिशत तक हो गया था। लेकिन इसके बाद ब्याज दर में कटौती देखने को मिली हालांकि अप्रैल 2016 के बाद धीरे-धीरे सरकार फिर से ब्याज दर बढ़ाने की कोशिश में है। सरकार हर तिमाही पर ब्याज दरों की घोषणा करती रहती है। इससे पहले साल में एक बार पीपीएफ के ब्याज दर बदले जाते थे।

इस बार के अक्टूबर से दिसंबर तक की तिमाही के लिए पीपीएफ की ब्याज दर 7.9 प्रतिशत (वार्षिक) है। अगर बात करें सबसे ज्यादा ब्याज दर मिलने वाले साल की तो नेशनल सेविंग इंस्टीट्यूट साल 1986- 1999 और 1999-2000 तक के सालों में ब्याज दर 12 प्रतिशत थी। इसके अलावा साल 2000 के जनवरी महीने से लेकर 2001 के फरवरी महीने तक ब्याज दर 11 प्रतिशत रही थी।

ऐसे मिलेगा ब्याज का पूरा लाभ: एक बात गौर करने वाली यह है कि पीपीएफ खाते से बीच-बीच में धनराशि निकालना अच्छा नहीं होता है।दरअसल मैच्योरिटी पीरियड से पहले बीच-बीच में कुछ धनराशि निकालने की स्थिति में खाताधारक को यह नुकसान होगा कि उससे बची हुई धनराशि पर मिलने वाले पैसे पर कम ब्याज मिलता है। इसके साथ ही मैच्योरिटी से पहले बीच में धनराशि निकालने पर खाताधारक को कुल डिपोजिट पर 1% प्रीमैच्योर क्लोजर फीस भी देनी होती है।

Next Stories
1 SBI ग्राहकों के लिए मुफ्त CASH WITHDRAWL की सीमा घटी? जान लीजिए सही नियम
2 BSNL ग्राहकों के लिए खुखबरी, अब Paytm ऐप के जरिए कीजिए Wi-Fi हॉटस्पॉट्स का इस्तेमाल
3 दिवाली पर घर-गांव जाने को लोग न हों परेशान, इसलिए Indian Railways ने किए ये इंतजाम
CSK vs DC Live
X