ताज़ा खबर
 

PM Mudra Yojana: सरकारी दे रही ब्याज में 2 फीसदी सब्सिडी, जानें कैसे ले सकते हैं सस्ता लोन

PM Mudra Yojana: सरकार शिशु कैटिगरी में लाभार्थियों को 50,000 रुपये तक का कर्ज बिना किसी गारंटी के देती है। बीते बुधवार (24 जून 2020) को सरकार ने इस कैटिगरी के लोन पर 2 फीसदी ब्याज सब्सिडी की घोषणा की है।

lic, lic jeevan shanti scheme, lic new jeevan shanto plan, lic jeevan shanto calculator, LIC Jeevan Shanti, LIC jeevan shanti, LIC, scheme, invest, one time invest, pension, LIC,LIC Jeevan Shanti, LIC Jeevan Shanti Plan, LIC Pension Scheme, LIC Tax Benefits, LIC policy, lic scheme, LIC premium, insur, LIC India, LIC jeevan shanti review, LIC Jeevan shanti Benefits

PM Mudra Yojana: प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत अपना खुद का बिजनेस शुरू करने वाले एंटरप्रेन्योर्स को सस्ता कर्ज मुहैया करवाया जाता है। इस योजना को 2015 में लॉन्च किया गया था। इस योजना के तहत सेल्फ-प्रोपराइटर, पार्टनरशिप, सर्विस सेक्टर की कंपनियां, माइक्रो उद्योग के लिए लोन लिया जा सकता है। सरकार 10 लाख रुपये तक का लोन मुहैया करवाती है। इस योजना के अंतर्गत तीन कैटिगरी में लोन मुहैया करवाया जाता है। इनमें शिशु लोन, किशोर लोन और तरुण लोन शामिल हैं।

सरकार शिशु कैटिगरी में लाभार्थियों को 50,000 रुपये तक का कर्ज बिना किसी गारंटी के देती है। लोन चुकाने की अवधि को 5 साल तक बढ़ाया जा सकता है। बीते बुधवार (24 जून 2020) को सरकार ने इस कैटिगरी के लोन पर 2 फीसदी ब्याज सब्सिडी की घोषणा की है। ऐसे में अगर आप अपना काम शुरू करने की सोच रहे हैं जो कि 50 हजार रुपये में शुरू हो सकता है तो इस लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

कैसे ले सकते हैं लोन: लोन के लिए आपको सरकारी या बैंक की शाखा में अप्लाई करना होता है। आपको अपने नजदीकी बैंक में जाकर मकान के मालिकाना हक या किराये के दस्तावेज, काम से जुड़ी जानकारी, आधार, पैन नंबर सहित कई अन्य दस्तावेज के साथ आवेदन फॉर्म भरना होगा।

आवेदन फॉर्म में दी गई जानकारी को सही से चेक कर लेने के बाद बैंक अधिकारी को सौंप देना होगा। इस दौरान आपसे आपके बिजनेस आइडिया और प्लान के बारे में बैंक अधिकारी सवाल जवाब करेंगे। इसके साथ ही आपको अपना क्रेडिट स्कोर भी पता लगाना होगा।

क्रेडिट स्कोर में किसी भी खाताधारक के कर्ज के भुगतान के बारे में एनालिसिस होता है। इसमें बैंक की तरफ से देखा जाता है कि लोन का पेमेंट तय टाइम लिमिट में किया गया है या नहीं, पेमेंट से कितने बार चूके, इसके साथ ही ब्याज का भुगतान किया गया है या नहीं। आपका लोन अप्रुव होने के बाद खाते में ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 UP Board 10th, 12th Result 2020: मोबाइल से UP Board परीक्षा का रिजल्ट देखने का ये है तरीका, जानें पूरा प्रॉसेस
2 ग्रेच्‍युटी की इतनी रकम पर नहीं लगता टैक्स, जानें 10 साल की नौकरी पर कितनी ग्रेच्‍युटी
3 PM Kisan Yojana: आवेदन के बावजूद 12 लाख किसानों को नहीं मिलेंगे 6000 रुपये, जानें क्यों अटक जाती हैं आपकी किस्तें
राशिफल
X