पेंशन मिलने में ना आए रुकावट, तो जनरेट करें डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र, जानिए कैसे करना है प्रोसेस

जीवन प्रमाण पत्र डोरस्टेप बैंकिंग द्वारा भी जमा किया जा सकता है, जो 12 सरकारी बैंकों के बीच गठबंधन है। भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक और अन्य इस गठबंधन का हिस्सा हैं।

pensioners, life certificate, pension
पेंशनर्स अब डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र से भी पा सकते है अपनी पेंशन।

पेंशनर्स को साल में एक दिन बैंक, पोस्ट ऑफिस या आपने ऑफिस में जाकर बताना होता है कि, वह जीवीत हैं और उनकी पेंशन चालू रखी जाए। रिटायरमेंट के बाद बहुत से लोगों को चलने-फिरने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। फिर भी पेंशनर्स काे साल भर में एक दिन इस परेशानी से दो-चार होना ही पड़ता है। लेकिन हम आपको डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र के बारे में बताने वाले हैं। जिसके बाद पेंशनर्स को किसी भी ऑफिस में जाकर अपने जीवीत होने का प्रमाण नहीं देना होगा। बल्कि आपको प्रमाण पत्र डिजिटल तरीके से आधार कार्ड की मदद से तैयार हो जाएगा। आइए जानते है डिजिटल जीवन प्रमाण पत्र के बारें में….

आखिर क्या है डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र – ये दरअसल एक बायोमेट्रिक एनेबल्ड आधार बेस्ट डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र है। जिसे इंडिविजुअल पेंशनर्स के लिए उनके आधार नंबर और बायोमेट्रिक्स का उपयोग करके जनरेट किया जा सकता है। ऐसे में पेंशनर्स को जीवन प्रमाण पत्र के लिए पेंशन डिस्बर्सिंग ऑफिसर के सामने पेश होने की जरूरत नहीं होती। क्योंकि ये जीवन प्रमाण पत्र डिजिटल रुप से उपलब्ध होता और ऑटोमेटिक प्रोसेस से जनरेट होता है। जिसमें पेंशनर्स की एक यूनिक आईडी होती है जिसे प्रमाण-आईडी कहा जाता है।

प्रमाण आईडी करनी होगी पहले जनरेट – इसके लिए आपको Jeevan Pramaan ऐप डाउनलोड करना होगा और register as a new user विकल्प में जाकर आपना आधार, नाम, बैंक खाता, पेंशन पेमेंट ऑर्डर और अन्य डिटेल भरनी होगी। जिसके बाद एक ओटीपी जनरेट होगा। जो कि आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आएगा। ओटीपी और आधार नंबर फिल करने के बाद सबमिट विकल्प पर क्लिक करना होगा और आपकी प्रमाण आईडी जनरेट हो जाएगी।

ऑनलाइन जीवन प्रमाण पत्र जनरेट करने का तरीका – प्रमाण आईडी जनरेट होने के बाद दूसरे ओटीपी के जरिए ऐप में लॉगिन करें। इसके बार जेनरेट जीवन प्रमाण विकल्प पर क्लिक करें और आधार और मोबाइल नंबर दर्ज करें। इसके बाद आपके सामने पीपीओ नंबर, वितरण एजेंसी का नाम और अन्य विवरण दर्ज करने के लिए ऑप्शन आएगा। जिसे भरने के बाद आधार डेटा को यूज करके पेंशनर्स के फिंगरप्रिंट और आईरिस स्कैन होंगे। इसके बाद आपका जीवन प्रमाण पत्र स्क्रीन पर होगा और SMS के जरिए पेंशनभोगी के रजिस्टर्ड मोबाइल पर कंफर्मेशन मैसेज आएगा।

ऐसे जमा करना होगा प्रमाण पत्र – पेंशनर्स अपना जीवन प्रमाण पत्र https://jeevanpramaan.gov.in की वेबसाइट या ऐप के माध्यम से जमा करा सकते हैं। लेकिन इससे पहले पेंशनर्स को इस वेबसाइट पर रजिस्टर करना होगा। इसके साथ ही आधार नंबर, पेंशन भुगतान का आदेश या PPO, बैंक अकाउंट नंबर, बैंक नाम और मोबाइल नंबर भरना होगा।

यह भी पढ़ें: आपके Aadhar कार्ड से हो सकता है फ्रॉड! इसे लॉक करके कर सकते हैं सुरक्षित, जानिए पूरी प्रोसेस

डोरस्टेप बैंकिंग से DLC जमा करें – जीवन प्रमाण पत्र डोरस्टेप बैंकिंग द्वारा भी जमा किया जा सकता है, जो 12 सरकारी बैंकों के बीच गठबंधन है। भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक और अन्य इस गठबंधन का हिस्सा हैं। डोरस्टेप बैंकिंग सर्विस का लाभ उठाने के लिए Google Playstore से अपने मोबाइल फोन पर डोरस्टेप बैंकिंग ऐप डाउनलोड करना होगा, या वेबसाइट https://doorstepbanks.com/ पर जाना होगा।

यह भी पढ़ें: खराब सिबिल स्कोर की वजह से नहीं मिल रहा बैंक लोन! तो जानिए इसे 5 स्टेप में ठीक करने का तरीका

पोस्टमैन से भी हो जाएगा काम – इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए, डाक विभाग ने इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ मिलकर पिछले साल नवंबर में डाकिया के माध्यम से डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र जमा करने के लिए डोरस्टेप सेवा शुरू की। इस प्रक्रिया में पेंशनर को पोस्टइन्फो डाउनलोड करना होगा। यह एक चार्जेबल सर्विस है और देश भर में केंद्र सरकार के सभी पेंशनर के लिए उपलब्ध है।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
पारस मणि के अलावा अगर आपको मिल जाएं ये चार चमत्कारी चीजें तो बदल सकता है आपका भाग्यluck, lucky thing, sanjivni buti, pars mani, somras, nagmani, ramayan संजीवनी बूटी, पारस मणि, सोमरस, नागमणि, कल्पवृक्ष, रामायण
अपडेट