NPS में हाल-फिलहाल में हुए हैं ये बदलाव, जानना चाहेंगे आप पर कैसे डालेंगे असर?

कर लाभ के साथ रिटायरमेंट के बाद के जीवन के लिए हाई रिटर्न निवेश विकल्प के साथ एनपीएस को कम जोखिम वाला माना जाता है।

rupees, nps, pension
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Pixabay)

राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (नेशनल पेंशन सिस्टम) सरकारी और गैर-सरकारी दोनों क्षेत्रों के कर्मचारियों के लिए एक लोकप्रिय सरकार समर्थित सेवानिवृत्ति योजना है। एनपीएस (NPS) को पीएफआरडीए (PFRDA) द्वारा नियंत्रित किया जाता है। वित्त वर्ष 22 के अंत तक एनपीएस योजना के तहत प्रबंधन के तहत कुल संपत्ति 30% बढ़कर 7.5 लाख करोड़ रुपये होने की उम्मीद है।

25 सितंबर 2021 तक 18.28 लाख निजी व्यक्तिगत नामांकन थे, जिनमें कॉरपोरेट सेक्टर के 12.59 लाख ग्राहक शामिल थे। केंद्र सरकार के कर्मचारियों की कुल संख्या 22.24 लाख है, जबकि राज्य सरकार के कर्मचारियों की संख्या 53.79 लाख है। कर लाभ के साथ रिटायरमेंट के बाद के जीवन के लिए हाई रिटर्न निवेश विकल्प के साथ एनपीएस को कम जोखिम वाला माना जाता है। हाल ही में एनपीएस के नियमों में कई बदलाव किए गए हैं। आइए जानें:

सरकारी क्षेत्र के एनपीएस ग्राहकों के लिए ऑनलाइन निकास प्रक्रिया का विस्तार: पीएफआरडीए ने हाल ही में बाहर निकलने के मौजूदा भौतिक मोड के अलावा एक विकल्प के रूप में सरकारी क्षेत्र के ग्राहकों के लिए बाहर निकलने की ऑनलाइन और कागज रहित प्रक्रिया को बढ़ाया है। 4 अक्टूबर, 2021 को एक सर्कुलर में नियामक ने कहा, “ग्राहकों के हित में बढ़े हुए परिश्रम के हिस्से के रूप में मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार ऑनलाइन निकास को तत्काल बैंक खाता सत्यापन के साथ एकीकृत किया जाएगा। यह सुविधा केंद्र/राज्य सरकार के स्वायत्त निकायों के उन कर्मचारियों के लिए भी उपलब्ध होगी जो एनपीएस में शामिल हैं।”

नया एंट्री नियमः नियामक ने हाल ही में एनपीएस में प्रवेश की आयु बढ़ाकर 70 वर्ष कर दी है। पहले प्रवेश की आयु 65 वर्ष थी। अब 18-70 वर्ष के बीच कोई भी व्यक्ति एनपीएस की सदस्यता ले सकेगा। नए प्रवेश आयु नियम के साथ एनपीएस से बाहर निकलने वाले ग्राहक भी अपने खाते फिर से खोल सकते हैं।

एनपीएस खाते को 75 साल तक टालें: एनपीएस खाताधारकों को 75 वर्ष की आयु तक अपने खाते को स्थगित करने की अनुमति दी गई है।

संपत्ति आवंटन मानदंड बदले: 65 साल के बाद एनपीएस में शामिल होने वाले सब्सक्राइबर ऑटो और एक्टिव चॉइस के तहत क्रमशः 15% और 50% के अधिकतम इक्विटी एक्सपोजर के साथ पेंशन फंड और एसेट एलोकेशन के विकल्प का प्रयोग कर सकते हैं। पीएफआरडीए के मुताबिक, 65 साल के बाद एनपीएस में शामिल होने वाले सब्सक्राइबर ऑटो और एक्टिव चॉइस के तहत क्रमश: 15% और 50% के अधिकतम इक्विटी एक्सपोजर के साथ पीएफ और एसेट एलोकेशन के विकल्प का इस्तेमाल कर सकते हैं। पेंशन फंड को साल में एक बार बदला जा सकता है, जबकि एसेट एलोकेशन को दो बार बदला जा सकता है।

नए निकासी नियम: अब 65 साल के बाद एनपीएस में शामिल होने वाले नए ग्राहकों के लिए तीन साल की लॉक-इन अवधि है। बाहर निकलने के लिए अधिकतम आयु 75 है। सब्सक्राइबर कर-मुक्त एकमुश्त के रूप में कुल राशि का 60% निकाल सकते हैं और उन्हें शेष 40% का उपयोग वार्षिकी खरीदने के लिए करने की जरूरत होती है। हालांकि, अगर कॉर्पस पांच लाख रुपए से कम है तो ग्राहक पूरी राशि निकाल सकता है।

नया समयपूर्व निकासी नियम: अगर आप राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) से समय से पहले बाहर निकलने की योजना बना रहे हैं, तो आपको एनपीएस के तहत अपनी संचित संपत्ति का केवल 20% एकमुश्त मिलेगा। शेष राशि के साथ आपको एक वार्षिकी खरीदनी होगी। यह 80:20 नियम 18-60 वर्ष के बीच एनपीएस में शामिल होने वाले सरकारी और गैर-सरकारी दोनों क्षेत्रों के ग्राहकों के लिए लागू होगा। हालांकि, गैर-सरकारी क्षेत्र के मामले में व्यक्ति को 10 साल के लिए ग्राहक होना चाहिए।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।