ताज़ा खबर
 

जल्द ही 19 करोड़ EPF खातों में आ सकती है ब्याज की एकमुश्त रकम, वित्त मंत्रालय की हरी झंडी का इंतजार

मंत्रालय की तरफ से इसपर कोई जवाब नहीं आया है लेकिन माना जा रहा है कि एक हफ्ते के भीतर तस्वीर साफ हो जाएगी। एक सीनियर ईपीएफओ अधिकारी के मुताबिक इस संबंध में केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय को पत्र भी लिखा है।

Income Tax, Reality Show, Prize Moneyफाइल फोटो

प्राइवेट सेक्टर से जुड़े 19 करोड़ ईपीएफ खाताधारकों को जल्द ब्याज की एमकुश्त राशि मिल सकती है। वित्त वर्ष 2019-20 के लिए ईपीएफ सेविंग पर सरकार 8.5 फीसदी ब्याज के तहत राशि जमा कर सकती है। इसके लिए तैयारियां पूरी हो चुकी हैं और अब सिर्फ वित्त मंत्रालय की मंजूरी का इंतजार किया जा रहा है।

एक सीनियर ईपीएफओ अधिकारी के मुताबिक इस संबंध में केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय को पत्र भी लिखा है। इस पत्र में 19 करोड़ खाताधारकों को 8.5 फीसदी ब्याज भुगतान करने की बात कही गई है। हालांकि मंत्रालय की तरफ से इसपर कोई जवाब नहीं आया है लेकिन माना जा रहा है कि एक हफ्ते के भीतर तस्वीर साफ हो जाएगी।

बता दें कि ईपीएफ खाताधारक दिवाली के मौके पर ब्याज का इंतजार कर रहे थे पर यह अभी तक उनके खातों में ट्रांसफर नहीं हुआ है। ईपीएफओ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) के नेतृत्व में श्रम और रोजगार मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने सितंबर में घोषणा की थी कि कोविड-19 महामारी के कारण ईपीएफओ पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है इसके लिए संगठन दो किश्तों में ब्याज का का भुगतान करेगा।

ईपीएफओ ने फैसला किया था कि कुल ब्याज राशि में 8.15 प्रतिशत ब्याज तुरंत जमा किया जाएगा और बाकी 0.35 प्रतिशत बाद में दिया जाएगा। हालांकि, ईपीएफओ ने ब्याज जमा करने से पहले अपने इक्विटी रिटर्न की जांच करने के लिए दिसंबर तक इंतजार करने का फैसला किया। हालांकि ईपीएफओ अधिकारी के मुताबिक अब राहत की बात यह है कि ईपीएफओ पहले के मुकाबले बेहतर स्थिति में है। और ब्याज का भुगतान एकमुश्त किया जाएगा।

Next Stories
1 यात्रीगण कृपया ध्यान दें! बगैर चेक किए घर से चले तो पड़ सकते हैं मुश्किल में! पढ़ लें Indian Railways की एडवाइजरी
2 31 दिसंबर से पहले कर लें ये काम, वर्ना लगेगी 10 हजार रुपये की चपत
3 PM Awas Yojana: ऑनलाइन फॉर्म भरने का ये है तरीका, गलती करेंगे तो होम लोन के ब्याज पर नहीं मिलेगी ढाई लाख रु तक की सब्सिडी
यह पढ़ा क्या?
X