ताज़ा खबर
 

पीएफ खाता है तो जरूर ले लीजिए यूएएन नंबर, यह है ऑनलाइन पता करने का तरीका

पहले पीएफ का पैसा हस्तांतरित करने या निकालने के लिए, कर्मचारी को पिछले संस्थान में जाना पड़ता था। उसे जटिल प्रकिया के तहत कई एप्लिकेशन फॉर्म और उनकी नकल भरकर दस्‍तावेज के साथ जमा करनी पड़ती थी। ये प्रकिया ईपीएफओ के द्वारा यूएएन लाने के बाद आसान हो गई है।

ईपीएफओ एक फंड मैनेजर के तौर पर करेगा काम!

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ), किसी कर्मचारी के सभी पिछले और वर्तमान नियोजकों के द्वारा किए गए योगदान को एक आॅनलाइन प्लेटफॉर्म पर ले आया है। इन सभी जानकारियों को ईपीएफओ का सदस्य एक यूनीवर्सल अकाउंट नंबर यानी यूएएन के जरिए कभी भी देख सकता है। कर्मचारी भविष्य निधि यानी ईपीएफ निजी क्षेत्र के वेतनभोगी कर्मचारियों के लिए सहायक सेवानिवृत्ति लाभ योजना है। ईपीएफ में मूल वेतन और दैनिक भत्तों का 12 फीसदी जमा करने का वैधानिक प्रावधान है। यदि यह सेवानिवृत्ति के लाभ में भी जोड़ा जाता है और अगर कर्मचारी और उसके नियोक्ता के द्वारा समान रूप से योगदान किया गया है तो केंद्र सरकार भी योग्य मूल वेतन में 1.16 फीसदी का योगदान करती है। पीएफ में जमा किए गए पैसे को ईपीएफओ अपने द्वारा अधिकृत ट्रस्ट में कर्मचारियों के पीएफ खातों को रखने के लिए जमा कर देता है।

अगर कर्मचारी एक कंपनी से दूसरे कंपनी में चला जाता है तो वह अपना पीएफ का पैसा पिछली कंपनी से वर्तमान कंपनी में या तो हस्तांतरित कर सकता है या फिर निकाल सकता है। पहले पीएफ का पैसा हस्तांतरित करने या निकालने के लिए, कर्मचारी को पिछले संस्थान में जाना पड़ता था। उसे लंबी और जटिल प्रकिया के तहत कई एप्लिकेशन फॉर्म और उनकी नकल भरकर कई दस्‍तावेज के साथ जमा करनी पड़ती थी।

हालांकि ये प्रकिया ईपीएफओ के द्वारा यूएएन लाने के बाद आसान हो गई है। यूएएन, विभिन्न संगठनों द्वारा अपने कर्मचारी को दी जाने वाली अलग सदस्यता संख्या को एक ही जगह समायोजित करके रखने में बेहद मददगार साबित होता है। यूएएन नंबर धारी सदस्य एक ही स्थान पर वर्तमान और पिछले संस्थान से जुड़ी हुई पीएफ संबंधित सारी जानकारियों को देख सकता है। जानकारियां देखने के अलावा, सदस्य पीएफ का पैसा पिछले नियोक्ता के पास जाए बिना या फिर भौतिक फॉर्म भरे बिना या तो निकाल सकता है या फिर आॅनलाइन अपने किसी खाते में ट्रांसफर भी कर सकता है।

हालांकि, इन सभी सुविधाओं का लाभ आप तभी उठा सकेंगे, जब आपके पास यूएएन नंबर होगा। अगर आपके पास अपना यूएएन नंबर नहीं है और आप अपने पिछले नियोक्ता के पास जा भी नहीं सकते हैं। तो आप ईपीएफओ की वेबसाइट https://unifiedportal-mem.epfindia.gov.in/memberinterface/ पर जाकर भी ये नंबर हासिल कर सकते हैं। साइट पर जाने के बाद आपको ‘Activate UAN’ बटन को दबाना होगा।

यूएएन हासिल करने के लिए आपको निम्नलिखित जानकारियां देनी होंगी।

  1. यूएएन
  2. सदस्य संख्या
  3. आधार कार्ड नंबर या
  4. पैन कार्ड

इसलिए, अगर आपके पास यूएएन नहीं है, तो आप सदस्य संख्या या आधार नंबर या पैन नंबर दाखिल करके इसे हासिल सकते हैं।

इन सभी जानकारियों के अलावा आपको अपना नाम, जन्मतिथि, मोबाइल नंबर, ईमेल-पता और कैप्चा कोड भी सही स्थानों पर भरने होंगे। डेटा मैच होने के बाद, आपके द्वारा उपलब्ध करवाए गए मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजा जाएगा। ओटीपी डालने के बाद, आपके मोबाइल पर एक अन्य मैसेज आएगा जिसमें आपका यूएएन नंबर और पासवर्ड लिखा होगा। इस तरह से आप पिछले नियोक्ता के पास जाए बिना अपना यूएएन आॅनलाइन भी हासिल कर सकते हैं। अगर आप अपना यूएएन नंबर जारी करवाने के बाद भूल चुके हैं तो आप उसी साइट पर ‘Know your UAN status’ बटन को दबाकर जानकारी हासिल कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App