ताज़ा खबर
 

ये है प्रधानमंत्री उज्‍ज्‍वला योजना के तहत चूल्‍हा और गैस सिलेंडर पाने का पूरा प्रॉसेस

गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) वाली महिलाओं को चूल्हे के धुएं से होने वाली बीमारियों से बचाने के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की शुरूआत की थी। इस योजना में गरीब परिवारों की महिलाओं को नि:शुल्क गैस कनेक्शन देने की व्यवस्था की गई थी। इस योजना की शुरूआत 1 मई 2016 को यूपी के बलिया जिले से की गई थी।

Author November 1, 2018 4:30 PM
उज्ज्वला योजना की लाभार्थी को गैस कनेक्शन देते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। फोटो: facebook/PM Ujjwla Yojna

भारत सरकार ने गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) वाली महिलाओं को चूल्हे के धुएं से होने वाली बीमारियों से बचाने के लिए प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की शुरूआत की थी। इस योजना में गरीब परिवारों की महिलाओं को नि:शुल्क गैस कनेक्शन देने की व्यवस्था की गई थी। इस योजना की शुरूआत 1 मई 2016 को यूपी के बलिया जिले से की गई थी।

इस योजना से गरीब परिवारों को और खासतौर पर महिलाओं को काफी सहूलियत मिली है। ये योजना पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के सहयोग से चलाई जा रही है। इस योजना की शुरूआत करने का मकसद देश में ग्रीन फ्यूल या स्वच्छ ईंधन को बढ़ावा देना है। इसके अलावा इस योजना का सबसे बड़ा लाभ यह भी है कि चूल्हे के धुएं से महिलाओं को होने वाली परेशानी से निजात मिलेगी और पर्यावरण का प्रदूषण भी कम होगा। सरकार ने इस योजना के लिए 8000 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया है।

कैसे करें आवेदन?:  प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत गैस का कनेक्शन गरीबी रेखा से नीचे आने वाले परिवार की महिला के नाम पर जारी होता है। कनेक्शन पाने के लिए गरीबी रेखा से नीचे आने वाले परिवार की महिला ही आवेदन करती है। कनेक्शन पाने के लिए केवाईसी फॉर्म भरना पड़ता है। आवेदन फॉर्म को या तो उज्ज्वला योजना की वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है या फिर नजदीकी एलपीजी केंद्र से इसे लिया जा सकता है। आवेदन फॉर्म में कुल दो पेज होते हैं। दो पेज के इस फॉर्म को जरूरी दस्तावेज जैसे अपना नाम, पता, जन धन बैंक खाता संख्या, आधार नंबर आदि के साथ भरकर एलपीजी केंद्र में जमा करना पड़ता है। आवेदन करने वाले को ये भी बताना पड़ता है कि उसे 14.2 किग्रा वजन वाला सिलिंडर चाहिए या फिर 5 किलोग्राम वाला।

Ujjwala Scheme उत्तर प्रदेश समेत देश के बहुत से हिस्सों में आज भी महिलाएं चूल्हे पर ही खाना बनाती हैं। फोटो: Express Photo By Vishal Srivastava.

कौन से दस्तावेजों की पड़ेगी जरूरत:
पंचायत अधिकारी या नगर निगम, नगर पालिका अध्यक्ष द्वारा जारी कार्ड
गरीबी रेखा के नीचे वाला (बीपीएल) राशन कार्ड
फोटो पहचानपत्र (आधार कार्ड, वोटर आईडी)
पासपोर्ट साइज फोटो
राशन कार्ड की कॉपी
राजपत्रित अधिकारी द्वारा सत्यापित स्व-घोषणा पत्र
LIC पॉलिसी, बैंक स्टेटमेंट
BPL सूची में नाम का प्रिंट आउट

उज्ज्वला योजना में कनेक्शन पाने के कुछ नियम :

आवेदक का नाम सामाजिक आर्थिक जाति जनगणना 2011 के आंकड़ों में होना चाहिए।
आवेदन करने वाली महिला की उम्र 18 साल से कम न हो।
महिला गरीबी रेखा से नीचे आने वाले परिवार की ही होनी चाहिए।
महिला का बचत खाता किसी राष्ट्रीय बैंक में होना ही चाहिए।
आवेदक के घर में पहले से कोई भी एलपीजी कनेक्शन नहीं होना चाहिए।
आवेदक के पास बीपीएल कार्ड और बीपीएल राशन कार्ड होना चाहिए।

मिलती है ​आर्थिक मदद: उज्ज्वला योजना के तहत भारत सरकार कनेक्शन पाने वाले हर परिवार को 1600 रुपये की अार्थिक मदद देती है। ये रकम कनेक्शन खरीदने के लिए दी जाती है। सरकार पहली बार चूल्हा खरीदने और पहली गैस सिलिंडर को भरने में खर्च होने वाली रकम को चुकाने के लिए किश्तों में पैसे अदा करने की सुविधा भी देती है। ज्यादा जानकारी के लिए आप पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय की वेबसाइट पर भी विजिट कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App