Know all the benefits of Drinking Clay Pot Water - लू से बचाता है मटके का पानी, जानिए और फायदे - Jansatta
ताज़ा खबर
 

लू से बचाता है मटके का पानी, जानिए और फायदे

यह न केवल आपको लू से बचाएगा, बल्कि आपके शरीर को भी तरो-ताजा और तंदुरुस्त रखेगा। यही कारण है कि आज भी ढेर सारे लोग घड़े-सुराही का पानी पीते हैं। वे फ्रिज या बाहर से लाई हुई बर्फ के मुकाबले इसे बेहतर मानते हैं, क्योंकि इसे पीने के अनेक फायदे हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फाइल फोटो)

चिलचिलाती धूप और गर्मी हर किसी को परेशान करती है। ऊपर से लू (गर्म हवाएं) लोगों का जीना दूभर करती हैं। ऐसे में मिट्टी के घड़े (मटके या सुराही) का पानी काफी लाभदायक साबित होता है। यह न केवल आपको लू से बचाएगा, बल्कि आपके शरीर को भी तरो-ताजा और तंदुरुस्त रखेगा। यही कारण है कि आज भी ढेर सारे लोग घड़े-सुराही का पानी पीते हैं। वे फ्रिज या बाहर से लाई हुई बर्फ के मुकाबले इसे बेहतर मानते हैं, क्योंकि इसे पीने के अनेक फायदे हैं।

ठंडा बना रहता है पानी: घड़ा झरझरा (छिद्रपूर्ण) होता है, जिससे उसमें रखा पानी ठंडा बना रहता है। ये न केवल मौसम के अनुकूल पानी को ठंडा करते हैं, बल्कि उसमें पाई जाने वाली अशुद्धियां भी जड़ से मिटा देते हैं। मिट्टी से बने होने की वजह से इसमें कई गुणवत्ता वाले तत्व होते हैं। ये खासियत फ्रिज, वॉटर कंटेनर और बाकी चीजों में भी नहीं होती।

मेटॉबॉलिज्म बनाता मजबूतः सुराही के पानी का तापमान सामान्य से हल्का सा कम होता है। ऐसे में यह शरीर को ठंडक पहुंचाता है। यही नहीं, इसका पानी शरीर के मेटॉबालिज्म (चयापचय) और पाचन की प्रक्रिया को भी बेहतर बनाता है। जो लोग लगातार घड़े का पानी पीते हैं, उन्हें जल्दी गैस, कब्ज और गला खराब होने जैसी समस्याएं नहीं होतीं।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फाइल फोटो)

पीएच संतुलन रखता है सही: मिट्टी में कई सारे विटामिन और मिनरल पाए जाते हैं। ये मिट्टी से बने घड़े और सुराहियों में भी चले जाते हैं। जब पानी घड़े में भरकर रखा जाता है, तो मिट्टी के क्षारीय तत्व पानी संग मिलकर उचित पीएच बैलेंस बनाते हैं। यह शरीर को हर प्रकार के नुकसान से बचाता है।

आम होकर भी है खास: बर्फ या फ्रिज वाला पानी लगातार नहीं पिया जा सकता। लगातार ठंडा पानी गला-नाक को नुकसान पहुंचाता है। खांसी-जुखाम और नाक बंद होने की समस्या आम हो जाती है। गले की ग्रंथियां भी कई बार सूज जाती हैं। कारण- गले की कोशिकाओं पर असर जो पड़ता है। ऐसे में घड़े का आम पानी अपने आप में खास होता है।

ये भी हैं फायदे: सबसे बड़ी बात है कि घड़ा-सुराही हर किसी के बजट में आता है। 60 से 100 रुपए में बढ़िया मटका, घड़ा या सुराही मिल जाता है। इन्हें रखने के लिए खास झंझट और जगह नहीं चाहिए होती है। ऊपर से यह बिजली की बचत करता है, जबकि फ्रिज में 24 घंटे बिजली की खपत होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App