ताज़ा खबर
 

URL के बारे में जान लें ये बारीकियां, कभी फर्जी वेबसाइट के चंगुल में नहीं फंसेंगे, ठगी से बचेंगे

How to check fake website: ठग एसएमएस, ईमेल आदि के जरिए यूजर्स को लिंक भेजते हैं और उसपर क्लिक करने के लिए कहते हैं। यूआरएल की ज्यादा समझ न होना लोगों को ठगी का शिकार बना देता है।

Cyber crime, Online Fraud,प्रतीकात्मक तस्वीर

How to check fake website: अक्सर देखा गया है कि लोग फर्जी वेबसाइट के झांसे में आकर ठगी का शिकार हो जाते हैं। ठग फर्जी वेबसाइट्स को कुछ इस तरह से डिजाइन करते हैं कि वे हूबहू असली की तरह ही दिखती है। लिंक यूआरएल को भी कुछ इस तरह से डिजाइन किया जाता है कि लोग आंख मूंदकर झटपट मांगी गई जानकारियां दर्ज कर देते हैं। ठग एसएमएस, ईमेल आदि के जरिए यूजर्स को लिंक भेजते हैं और उसपर क्लिक करने के लिए कहते हैं। यूआरएल की ज्यादा समझ न होना लोगों को ठगी का शिकार बना देता है।

ऐसे में आज हम आपको किसी भी फर्जी वेबसाइट को पहचानने के लिए कुछ टिप्स देंगे जिन्हें जानकार आप ठगी का शिकार होने से बच सकेंगे।

1. साइबर ठग एक जैसे दिखने वाले Logo, डोमेन नेम और नकली साइट बनाते हैं इसके लिए सबसे पहले जरूरी है URL की पहचान करना। अगर वेबसाइट के यूआरएल में https है तो यह एक ओरिजनल वेबसाइट है जबकि http। से शुरू होने वाली वेबसाइट नकली होती है।

2. वेबसाइट की स्पैलिंग जरूर चेक करें

3. registry.in/WHOIS पर जाकर किसी भी वेबसाइट के डोमेन के बारे में पता लगाया जा सकता है

4. वेबसाइट पर कोई कॉन्टैक्ट डिटेल्स नजर न आए तो समझ जाएं वेबसाइट फर्जी है

5. वेबसाइट के नीचे जाकर उसके कॉपीराइट की इन्फॉर्मेशन जरूर देखें

6. जो वेबसाइट फर्जी नहीं होती उनके URL के आगे ग्रीन लॉक का निशान लगा होता है

7. वेबसाइट पर एड्रेस की जानकारी ना मिले तो ऐसी साइट पर विजीट करने से बचें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सुकन्या समृद्धि योजना: 250 रुपये में खोल सकते हैं खाता, बेटी की शादी और पढ़ाई के खर्च की नहीं रहेगी कोई टेंशन, जानें इसकी खासियतें
2 लॉकडाउन खत्म होते ही करना चाहते हैं सफर, ट्रेन की टिकट हो रही बुक, रेलवे ने दी यह अहम जानकारी
3 अप्रैल में 12 दिन बंद रहेंगे बैंक, जरूरी काम है तो निपटा लें, इन तारीखों पर मायूस लौटना पड़ेगा