KISAN Credit Card इमरजेंसी में दिला सकता है लोन, पांच साल तक कर्ज चुकाने की मिलती है सुविधा, जानें- लेने का तरीका

किसान क्रेडिट कार्ड योजना के लाभार्थियों को रूपे (RUPAY) कार्ड दिया जाता है। वे इस स्कीम के तहत एक लाख रुपए तक के एक्सिडेंटल इंश्योरेंस के तहत कवर होते हैं।

kisan credit card, farmer, utility news
पंजाब के पटियाला शहर के एक गांव में भारी बारिश के बाद बर्बाद धान की फसल को दिखाते हुए बुजुर्ग किसान। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः हरमीत सोढ़ी)

किसान क्रेडिट कार्ड (KISAN Credit Card) के जरिए इमरजेंसी में लोन पाया जा सकता है। लाभार्थी को यह आर्थिक मदद मुख्यतः खेती के खर्च के लिए मुहैया कराई जाती है, जबकि इसे चुकाने के लिए पांच साल तक की मोहलत मिलती है। आइए जानते हैं इस कार्ड से जुड़ी अहम बातें:

यह भारत सरकार की एक योजना है, जो किसानों को समय-समय पर लोन उपलब्ध कराती है। इसे साल 1998 में किसानों को अल्पकालिक औपचारिक लोन देने करने के मकसद से शुरू किया गया था और नाबार्ड (राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक) द्वारा बनाया गया था।

केसीसी योजना यह सुनिश्चित करने के लिए शुरू की गई थी कि कृषि, मत्स्य पालन और पशुपालन क्षेत्र में किसानों की लोन संबंधी जरूरतों को पूरा किया जा सके। केसीसी की मदद से किसानों को बैंकों द्वारा दिए जाने वाले रेग्युलर लोन की ऊंची ब्याज दरों से छूट दी जाती है, क्योंकि केसीसी के लिए ब्याज दर दो प्रतिशत से कम और औसत चार फीसदी से शुरू होती है।

किसान क्रेडिट कार्ड योजना के लाभार्थियों को रूपे (RUPAY) कार्ड दिया जाता है। वे इस स्कीम के तहत एक लाख रुपए तक के एक्सिडेंटल इंश्योरेंस के तहत कवर होते हैं। जानकारी के मुताबिक, अगर कोई किसान तीन लाख रुपए का लोन लेता है, तब उस पर सात फीसदी की ब्याज दर लगती है। वहीं, तीन लाख रुपए से अधिक के ऋण पर इंट्रेस्ट रेट वक्त-वक्त पर बदलता रहता है।

कौन है इस क्रेडिट कार्ड के लिए पात्र?:

  • कोई भी व्यक्तिगत किसान, जो मालिक-किसान हो।
  • जो लोग एक समूह से जुड़े हैं और संयुक्त उधारकर्ता हैं। समूह को मालिक-किसान होना चाहिए।
  • बटाइदार, काश्तकार किसान या मौखिक पट्टेदार।
  • बटाइदारों, किसानों, काश्तकार किसानों, आदि के स्वयं सहायता समूह (एसएचजी) या संयुक्त देयता समूह (जेएलजी)।
  • मछुआरे जैसे गैर-कृषि गतिविधियों के साथ फसल या संबद्ध गतिविधियों जैसे पशुपालन के उत्पादन में शामिल किसान।

ये दस्तावेज लगते हैं: आवेदन फॉर्म, आधार, पैन, वोटर आईडी या डीएल सरीखे आईडी प्रूफ की कॉपी, जमीन के दस्तावेज, पासपोर्ट साइज फोटो और कार्ड जारी करने वाले बैंक की ओर से मांगी गई सिक्योरिटी पीडीसी।

इस तरह ऑनलाइन कर सकते हैं अप्लाई: जिस बैंक से यह क्रेडिट कार्ड लेना हो, उसकी वेबसाइट पर जाएं। वहां किसान क्रेडिट कार्ड का विकल्प चुनें। फिर “अप्लाई” पर क्लिक करें, जिसके बाद आपको आवेदन से जुड़े पेज पर पहुंचा दिया जाएगा। इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद आपके पास एक रेफरेंस नंबर आ जाएगा। अगर आप इस क्रेडिट कार्ड के लिए योग्य होंगे, तब बैंक अधिकारी आपसे दो से तीन दिन के भीतर संपर्क करेंगे। इसके अलावा आप सीधे बैंक जाकर भी इस स्कीम के लिए आवेदन दे सकते हैं।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
जान‍िए, स‍िम कार्ड में छ‍िपी होती है आपके बारे में कौन-कौन सी जानकारीsim card
अपडेट