ताज़ा खबर
 

Indian Railways का 139 नंबर बना अब एकीकृत हेल्पलाइन, 1 जनवरी से इस पर मिलेंगी ये 8 सुविधाएं

Indian Railways के मुताबिक, इस नंबर के जरिए लोगों को आठ प्रमुख सुविधाएं मिलेंगी जिसमें जानकारी, सहायता और मदद सरीखी चीजें शामिल हैं।

Indian Railways, Indian Railways Helpline Number, 139 Helpline, 139, Indian Railways, Railways News, Business News, Utility News, National News, Hindi News, भारतीय रेल, हेल्पलाइन नंबर, 139 हेल्पलाइन संख्या, यूटीलिटी न्यूज, हिंदी समाचारतस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (क्रिएटिवः नरेंद्र कुमार)

Indian Railways ने अब 139 हेल्पलाइन नंबर को एकीकृत रेलवे हेल्पलाइन में तब्दील कर दिया है। यह इंटरैक्टिव वाइस रिस्पॉन्स सिस्टम (IVRS) पर आधारित है। नए साल के पहले दिन यानी कि 1 जनवरी, 2020 से रेल के अनेक हेल्पलाइन नंबर के बजाय यात्रियों को अब सिर्फ इसी नंबर के इस्तेमाल से बाकी सुविधाओं का लाभ मिलेगा।

रेलवे के मुताबिक, इस नंबर के जरिए लोगों को आठ प्रमुख सुविधाएं मिलेंगी जिसमें जानकारी, सहायता और मदद सरीखी चीजें शामिल हैं। वे इस पर हेल्पलाइन पर कॉल या फिर SMS के जरिए मदद पा सकेंगे। जानकारों की मानें तो इस हेल्पलाइन को रेलवे ने वक्त के हिसाब से और बेहतर कर दिया है।

नए साल के पहले ही दिन से बढ़ेगा रेल किराया, पूरे टेबल में देखें कितना होगा इजाफा

नंबर पर कौन सी मिलेंगी सुविधाएं?

– सुरक्षा और मेडिकल इमरजेंसी – 1 नंबर दबाने पर
– पूछताछः पीएनआर, किराया और टिकट बुकिंग से जुड़ी जानकारी – 2 नंबर
– केटरिंग संबंधी शिकायत – 3 नंबर पर
– आम शिकायत – 4 नंबर के जरिए सतर्कता और भ्रष्टाचार की शिकायत – 5 नंबर से
– ट्रेन दुर्घटना से जुड़ी सूचना – 6 नंबर दबाकर
शिकायत का स्टेटस/स्थिति – 9 नंबर की मदद से
– कॉल सेंटर अधिकारी से बात करने के लिए – *

नीचे, चार्ट में इस चीज को और सरलता से समझेंः

Indian Railways, Indian Railways Helpline Number, 139 Helpline, 139, Indian Railways, Railways News, Business News, Utility News, National News, Hindi News, भारतीय रेल, हेल्पलाइन नंबर, 139 हेल्पलाइन संख्या, यूटीलिटी न्यूज, हिंदी समाचार

दिल्ली-मुंबई, दिल्ली-कोलकाता रेल रूट अगले 5 में वेटिंग लिस्ट से होंगे मुक्तः रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष विनोद कुमार यादव ने सोमवार को कहा कि दिल्ली-मुंबई और दिल्ली-कोलकाता मार्गों पर चलने वाली रेलगाड़ियों को अगले पांच वर्षों में प्रतीक्षा सूची टिकटों से मुक्त किया जायेगा।

यादव ने एक पत्रकार वार्ता में कहा कि रेलवे अगले 10 वर्षों में लगभग 2.6 लाख करोड़ रुपये की अनुमानित लागत वाले तीन अतिरिक्त माल ढुलाई गलियारों पर काम कर रहा है जिससे रेलवे को पर्याप्त रेलगाड़ियां चलाने के लिए मौजूदा मार्गों को मुक्त करने में मदद मिलेगी और किसी भी यात्री को प्रतीक्षा सूची टिकट नहीं मिलेगा।

Next Stories
1 रोजाना 14 रुपए का निवेश और जेब में होगी मोटी रकम! LIC के Anmol Jeevan-II में ये हैं इन्वेस्टमेंट के फायदे
2 IRCTC का न्यू ईयर गिफ्ट! अब यहां भी दौड़ेगी Tejas Express, ऑनबोर्ड मिलेंगी ये सुविधाएं; देखें इंटीरियर
3 1 जनवरी, 2020 से इन चीजों में होगा फेरबदल, PAN व Insurance के बदलेंगे नियम; ये चीजें होंगी सस्ती और महंगी
ये पढ़ा क्या?
X