scorecardresearch

Indian Railway IRCTC: सफर के दौरान कभी न करें ये गलतियां, जुर्माने के साथ 3 साल तक की हो सकती है जेल

अगर आप रेलवे से सफर कर रहे हैं तो कुछ ऐसी चीजें हैं, जिसका आपको विशेष ध्‍यान रखना चाहिए, लेकिन अगर आपने इस संबंध में कोई भी गलती कर दी तो आपको जेल भी जाना पड़ सकता है। साथ ही आप पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

Indian Railway IRCTC: सफर के दौरान कभी न करें ये गलतियां, जुर्माने के साथ 3 साल तक की हो सकती है जेल
सफर के दौरान यह गलतियां पड़ सकती हैं भारी, जानिए (फाइल फोटो)

भारतीय रेलवे यात्रियों को यात्रा के दौरान बहुत सी सुविधाएं देती है। कोविड के बाद से रेलवे की ओर से ऑनलाइन टिकट बुकिंग की बेहतर सुविधा से लेकर कंफर्म टिकट और बेडरोल आदि की सुविधा दी जा रही है। रेलवे से सफर करने के लिए आप जनरल से लेकर एसी कोच में सीट बुक कर सकते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं सफर के दौरान किन-किन बातों का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए।

अगर आप रेलवे से सफर कर रहे हैं तो कुछ ऐसी चीजें हैं, जिसका आपको विशेष ध्‍यान रखना चाहिए, लेकिन अगर आपने इस संबंध में कोई भी गलती कर दी तो आपको जेल भी जाना पड़ सकता है। साथ ही आप पर जुर्माना भी लगाया जा सकता है। अनजाने में भी आपसे ऐसी गलतियां न हो, इसके लिए आपको यह खबर ध्‍यान से पढ़ना चाहिए।

बिना टिकट यात्रा करना: अगर आप बिना पास और टिकट के यात्रा करते हैं तो रेलवे अधिनियम की धारा 138 के तहत, जिस दूरी से उसने यात्रा की है या उस स्टेशन से जहां से ट्रेन शुरू हुई है और अतिरिक्त शुल्क यानी 250 रुपए या किराए के बराबर चार्ज वसूला जाएगा।

धोखे से यात्रा करना: वहीं अगर कोई फ्रॉड तरीके यानी गलत टिकट, फर्जी पास या फिर किसी अन्‍य तरह का बहाना करके सफर करता है तो उसे रेलवे अधिनियम की धारा 137 के तहत 6 महीने जेल और 1 हजार रुपए का हर्जाना या फिर दोनों दंड लागू हो सकता है।

अर्लाम चेन खिंचने पर: अगर कोई अर्लाम चेन की पुलिंग अपने स्‍वार्थ या बेहद जरूरी कार्य के बिना खिंचता है तो धारा 141 के तहत- 12 महीने की जेल और 1000 रुपए का जुर्माना लग सकता है।

विकलांग कोच में सफर: विकलांग कोच में सफर करने पर धारा 155 ( ए) के तहत तीन महीने की जेल और 500 रुपए का जुर्माना लागू हो सकता है। यह कोच केवल विकलांग लोगों के लिए ही आरक्षित है।

ट्रेन की छत पर यात्रा करना: वहीं कोई यात्री ट्रेन की छत पर बैठकर सफर कर रहा है तो धारा 156 के तहत 3 महीने की जेल, 500 रुपए का जुर्माना या दोनों हो सकता है।

बिना योग्‍यता के सफर करना: आप जिस कोच में सफर कर रहे हैं और उसके लिए आप पात्र नहीं हैं तो रेलवे अधिनियम धारा 147 के तहत
सजा : छह महीने की जेल, एक हजार रुपये जुर्माना या दोनों।

उपद्रव और कूड़ेदान: अगर रेलवे में सफर के दौरान कोई उपद्रव या रेलवे को गंदा करता है तो धारा 145 (बी) के तहत
सजा : पहला अपराध 100 जुर्माना, दूसरा और बाद में 250 रुपए के साथ एक महीने की कैद हो सकती है।

बिल चिपकाना: अगर आप किसी तरह का पोस्‍ट या बिल ट्रेन पर चिपकाते हैं तो रेलवे की धारा 166 (बी) के तहत
सजा: 6 महीने की जेल, 500 रुपये जुर्माना या दोनों हो सकता है।

टाउटिंग: ट्रेन में सफर के दौरान अगर कोई अपने प्रोडक्‍ट का प्रचार या सामान बेचता है तो रेलवे की धारा 143 के तहत
सजा: 3 साल की जेल, 10,000 रुपये जुर्माना या दोनों लगाया जा सकता है।

अनधिकृत हॉकिंग: वहीं अगर कोई फेरीवाला भी ट्रेन में सफर के दौरान सामान बेचते हैं तो रेलवे की धारा 144 के तहत
सजा : एक साल की जेल, जुर्माना न्‍यूनतम 1,000 रुपए, 2000 रुपए या दोनों हो सकता है।

पढें यूटिलिटी न्यूज (Utility News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.