Indian Railways, IRCTC: रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी! लिया गया ये अहम फैसला

उत्तर रेलवे के प्रवक्ता दीपक कुमार ने बताया कि दैनिक यात्री अपने मासिक सीजनल टिकट का इस्तेमाल केवल 56 अनुमत ट्रेनों में यात्रा करने के लिए कर सकेंगे। एमएसटी पास की कीमत में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

कोरोना महामारी के कारण अभी सभी ट्रेनों का संचालन नहीं हो रहा है। Source: Express Photo by Deepak Joshi

Indian Railways, IRCTC: भारतीय रेलवे ने मंथली सीजन टिकटों (एमएसटी) को लेकर अहम फैसला लिया है। भारतीय रेलवे के मुताबिक जो मंथली सीजन टिकट (एमएसटी) कोरोना महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन की अवधि में एक्सपायर हुए थे, उन पर अभी भी सफर किया जा सकता है। हालांकि यह सहुलियत उत्तर रेलवे में चलने वाली चुनिंदा ट्रेनों में मिलेगी। रेलवे ने इस सर्विस को फिर से शुरू कर दिया है। इस सर्विस के शुरू होने से अब रोज-रोज टिकट के पैसे नहीं लगेंगे।

सीजन टिकट केवल 150 किलो मीटर तक दूरी के लिए जारी किए जाते हैं। उत्तर रेलवे की एक अधिसूचना के अनुसार, एमएसटी सेवाएं 3 सितंबर से फिर से शुरू हो जाएंगी। हालांकि, कुछ चुनिंदा ट्रेनों के लिए यह सुविधा फिर से खोली जा रही है।

रेलवे ने शुरू की ये स्पेशल ट्रेन, इन यात्रियों को भी बड़ी सौगात

फिलहाल उत्तर रेलवे द्वारा संचालित केवल 56 ट्रेनों के लिए एमएसटी सेवा फिर से शुरू की गई है। भारतीय रेलवे ने मासिक सीजन टिकटों को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया था ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ज्यादा संख्या में दैनिक यात्रियों को ले जाने वाली ट्रेनों में कोविड-19 प्रोटोकॉल बरकरार रहे।

उत्तर रेलवे के प्रवक्ता दीपक कुमार ने बताया कि दैनिक यात्री अपने मासिक सीजनल टिकट का इस्तेमाल केवल 56 अनुमत ट्रेनों में यात्रा करने के लिए कर सकेंगे। एमएसटी पास की कीमत में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

यात्री केवल चुनिंदा ट्रेनों में ही मासिक यात्रा पास का उपयोग कर सकेंगे। यदि कोई ऐसी ट्रेन में यात्रा करता हुआ पाया जाता है जो एमएलटी पास के दायरे में नहीं आती है, तो उसे नियमों के मुताबिक दंडित किया जाएगा।

कोई भी अनारक्षित मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में विशेष रूप से ईएमयू, डीईएमयू, एमईएमयू, मेल एक्सप्रेस और यात्री ट्रेनों में एमएलटी पास का इस्तेमाल करके यात्रा कर सकता है। इसके अलावा, यात्रियों को लंबी यात्रा के लिए एमएलटी पास का इस्तेमा करने से मनाही है, क्योंकि इसका इस्तेमाल सिर्फ निश्चित गंतव्यों के लिए होता है।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।