ताज़ा खबर
 

Indian Railways: किस आधार पर Cloak Room के लिए लिया जाता है किराया? जानिए शुल्क और नियम

Indian Railways Cloak Room Rules, Facilities and Fares in Hindi: क्लॉक रूम में सामान रखने पर यात्रियों को रसीद भी दी जाती है, जिस पर सामान का ब्यौरा और आदि जानकारियां होती हैं। यही पर्ची वापस लौटाने पर यात्रियों को स्टाफ सामान लौटाता है।

Author नई दिल्ली | Updated: September 16, 2019 4:26 PM
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (क्रिएटिवः नरेंद्र कुमार)

Indian Railways Cloak Room Rules, Facilities and Fares in Hindi: भारतीय रेल अपने यात्रियों को स्टेशंस पर अमानती सामान घर की सुविधा देता है। वे इसके जरिए स्टेशन पर लगेज और कीमती सामान सुरक्षित रख सकते हैं। अमानती सामान घर में सामान रखने के लिए कुछ शुल्क भी लगता है। यह चार्ज सामान के आकार, वजन और उसके कितने वक्त तक वहां रखना रखना है, इस पर निर्भर करता है।

दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर भी अमानती घर की सुविधा मिलती है। यहां ओपन स्टोरेज में एक यूनिट पैक/सामान रखने पर प्रति किलो के हिसाब से या फिर पहले 24 घंटे के लिए 30 रुपए लिए जाएंगे। अगले 24 घंटों के लिए यात्री को 40 रुपए और देने होंगे। यानी वह इस स्थिति में कुल 70 रुपए चुकाएगा।

वहीं, मैनुअल लॉकर के लिए शुरुआती 24 घंटों के लिए 60 रुपए शुल्क लिया जाएगा। अगले 24 घंटों के लिए 80 रुपए और देने होंगे। मतलब इस दौरान यात्री को 140 रुपए चुकाने होंगे।

निजामुद्दीन स्टेशन पर अमानती घर का संचालन करने वाली फर्म M/S K.PADMAJA के मुताबिक, एक बैग/लगेज के लिए अमानती घर का किराया उसके वजन या फिर उसके आकार (लंबाई, चौड़ाई और ऊंचाई) के आधार पर मापा जाएगा और इनमें जो चीज अधिक होगी, उसी आधार पर किराया लिया जाएगा।

नीचे तस्वीर में समझें कि आखिर 1, 2 और 3 यूनिट में कितना सामान या फिर कितनी बड़ी चीज रखी जा सकती हैः

हालांकि, अमानती घर के लिए ये सेवा शुल्क निजामुद्दीन स्टेशन के अलावा और कहीं लागू नहीं होता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि शहरों और स्टेशंस के हिसाब से अमानती घर पर लिए जाने वाले सेवा शुल्क में अंतर होता है।

लोगों के सामान महीने भर तक के लिए क्लॉक रूम में रखे जा सकते हैं। रेलवे के नियमों के मुताबिक, अगर एक महीने तक कोई अपना सामान लेने नहीं आया, तब उस सामान को लावारिस समझकर निस्तारित कर दिया जाएगा। लगेज/सामान की पर्ची या रसीद खो जाने की स्थिति में सामान तभी दिया जाएगा, जब यात्री स्टैंप्ड Indemnity Note लाकर देगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 POST OFFICE की फ्रेंचाइजी लेकर कर सकते हैं अच्छी कमाई, बस 5000 करना होगा डिपॉजिट, जानें तरीका
2 PAN-AADHAAR CARD लिंक की डेडलाइन बेहद नजदीक, जानें तरीका? ऐसे चेक कर सकते हैं स्टेटस
3 Airtel Digital TV के इस पैक को सब्सक्राइब कर उठा सकेंगे 226 चैनलों का मजा! जानें कीमत और बाकी डिटेल्स