अप्रैल 2019 से पहले ली है कार-बाइक तो 30 सितंबर तक करा लें ये काम, वरना 5500 रुपए लग सकता है फ़ाइन

हाई सिक्‍योरिटी रजिस्‍ट्रेशन प्‍लेट एक होलोग्राम स्टीकर होता है। जिसमें वाहन के इंजन और चेसिस नंबर होते हैं। इस नंबर को प्रेशर मशीन से लिखा जाता है।

hsrc registration, hsrp no plate, RTO, Fine, travell
हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट एल्यूमीनियम से बनी होती हैं। (file)

अगर आपने अप्रैल 2019 से पहले कार-बाइक ली है तो समय रहते हाई सिक्योरिटी लाइसेंस प्लेट अपने वाहनों में लगवा लें। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपको जुर्माना देना पड़ सकता है। कई राज्यों में इसकी समय सीमा 15 अप्रैल ही थी लेकिन कोरोना संकट के कारण इसे बढ़ा दिया गया था। अब 30 सितंबर तक किसी भी हालत में इसे करवाना अनिवार्य है।

हाई सिक्‍योरिटी रजिस्‍ट्रेशन प्‍लेट क्या है?: हाई सिक्‍योरिटी रजिस्‍ट्रेशन प्‍लेट एक होलोग्राम स्टीकर होता है। जिसमें वाहन के इंजन और चेसिस नंबर होते हैं। इस नंबर को प्रेशर मशीन से लिखा जाता है। यह दो पहिया और चार पहिया दोनों वाहनों के लिए जरूरी है। हाई सिक्‍योरिटी रजिस्‍ट्रेशन प्‍लेट में किसी भी तरह की छेड़छाड़ संभव नहीं है। आप घर बैठे ही ऑनलाइन हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के लिए आवेदन कर सकते हैं।

कैसे करें आवेदन? इसके लिए आवेदन करने के लिए आपको सबसे पहले इसके वेबसाइट https://bookmyhsrp.com/Index.aspx के लिंक पर जाना होगा। यहां आपके सामने हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट और कलर स्टीकर का विकल्प होगा। आपको HSRP नंबर प्लेट+कलर स्टीकर पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आपके सामने दो विकल्प प्राइवेट व्हीकल या कमर्शियल व्हीकल के ऑप्शन को चुनना होगा। मान लीजिए कि आपकी गाड़ी प्राइवेट है तो फिर आपको प्राइवेट व्हीकल पर क्लिक करना होगा।

कितना है फ़ाइन?: बिना हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन नंबर प्लेट वाले वाहनों पर परिवहन विभाग की तरफ से कार्रवाई की जाएगी। यही नहीं नियम विरुद्ध तरीके से नंबर प्लेट पर हिंदी या अन्य प्रकार के कलात्मक अक्षरों वाली प्लेट लगाने पर वाहन मालिकों को पहली बार में पांच हजार और दूसरी बार में दस हजार रुपये तक का जुर्माना भरना पड़ेगा।

क्यों है जरूरी?: हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट एल्यूमीनियम से बनी होती हैं, इसमें एक क्रोमियम बेस्ड होलोग्राम है। वर्तमान में इस्तेमाल की जानें वाली नंबर प्लेटों के साथ छेड़छाड़ करना बहुत आसान है और इन्हें आसानी से बदला जा सकता है। आमतौर पर, वाहन चोरी करने के बाद सबसे पहले पंजीकरण प्लेट को बदला जाता है। जिससे पुलिस और अधिकारियों के लिए चोरी के वाहन को ट्रैक करना मुश्किल हो जाता है। लेकिन एचएसआरपी को हटाया नहीं जा सकेगा।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट