ताज़ा खबर
 

EPFO: पीएफ खाते से कितना पैसा निकाल सकते हैं? यहां हैं आपके सभी सवालों के जवाब

जो ईपीएफ सदस्य अपने सेवा अवधि का पांच साल पूरा कर चुके हैं, वे घर खरीदने या बनाने के लिए कुछ निश्चित शर्तों के साथ एडवांस में पैसा निकालने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

शादी, इलाज या मकान खरीदने के लिए इपीएफओ का पैसा एडवांस में निकाल सकते हैं। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) अपने उपभोक्ताओं को कुछ विशेष परिस्थिति में भविष्य निधि संचय में जमा पैसे को एडवांस में निकालने की सुविधा देता है। एक ईपीएफओ उपभोक्ता अपने सेवा काल के दौरान विभिन्न परिस्थितियों जैसे कि बीमारी, शादी, शिक्षा या घर खरीदने के लिए पीएफ में जमा पैसा निकाल सकते हैं। इस पैसे को वापस जमा करने की जरूरत नहीं होती है। हालांकि, वे कितना पैसा निकाल सकते हैं, यह कर्मचारी की जरूरत और उनके सेवा काल के हिसाब से तय होती है।

सेवानिवृति के एक साल पहले कर्मचारी अपने कुल पीएफ जमा राशि का 90 प्रतिशत एडवांस में निकाल सकते हैं। वहीं, बेरोजगारी की स्थिति में वे 75 प्रतिशत तक निकाल सकते हैं। आप अपने भविष्य निधि में जमा कुल राशि को रिटायरमेंट या नौकरी छोड़ने के दो महीने बाद निकाल सकते हैं। सेवानिवृति के बाद या 10 साल सर्विस करने के बाद 50 साल की उम्र पूरा होते ही नौकरी छोड़ने के बाद आप अपना पेंशन निकाल सकते हैं। भविष्य निधि योजना के तहत आप कुछ विशेष कार्यों के लिए पुन: जमा करने या पुन: जमा न करने वाले लोन भी प्राप्त कर सकते हैं। जमा करने वाले लोन के लिए प्रत्येक महीने किश्त जमा करना होगा। बिना लौटाने वाले लोन पैसा निकालने की तरह होते हैं।

बीमारी: पीएफ का पैसा आंशिक रूप से इलाज के उद्देशय के लिए निकाला जा सकता है। यह खुद के, बच्चों और अभिभावक के इलाज के लिए निकाला जा सकता है। एक कर्मचारी अपने मूल वेतन और डीए के 6 महीने या उसके पूरे जमा पैसे ले सकता है, जो भी कम से कम हो। इस अवस्था में निकासी के लिए कोई लॉक-इन अवधि या न्यूनतम सेवा अवधि नहीं होती है।

शादी: एक ईपीएफओ सदस्य अपनी शादी, अपने बेटी-बेटे की शादी, बहन-भाई की शादी के लिए ईपीएफ अकाउंट में जमा 50 प्रतिशत पैसा निकाल सकता है। हालांकि, व्यक्ति का इसके लिए ईपीएफ में कम से कम सात वर्षों तक योगदान होना चाहिए। ईपीएफओ इस तरह के 3 निकासी की सुविधा देता है। कर्मचारी अधिकतम 50 प्रतिशत जमा पैसा निकाल सकते हैं।

शिक्षा: सात साल की सेवा अवधि के बाद ईपीएफओ सदस्य मैट्रिक के बाद बेटे या बेटी की शिक्षा के लिए पैसे निकाल सकते हैं। इसके तहत कर्मचारी ब्याज के साथ कुल जमा राशि का 50 प्रतिशत निकाल सकते हैं। ऐसा वे अधिकतम तीन बार कर सकते हैं।

घर खरीदने के लिए: जो ईपीएफ सदस्य अपने सेवा अवधि का पांच साल पूरा कर चुके हैं, वे घर खरीदने या बनाने के लिए कुछ निश्चित शर्तों के साथ एडवांस में पैसा निकालने के लिए आवेदन कर सकते हैं। ईपीएफाओ इस स्थिति में पैसे निकालने के लिए एक बार ही मौका देता है। इसकी कुल राशि 36 महीने के मूल वेतन और डीए हो सकती है या फिर कर्मचारी और नियोक्ता द्वारा जमा पैसे और उसका ब्याज हो सकता है। घर की कुल कीमत के बराबर भी पैसा मिल सकता है। हालांकि, यह घर ईपीएफ सदस्य, उसके आश्रित या फिर दोनों के संयुक्त नाम पर होना चाहिए।

रिटायरमेंट: एक ईपीएफओ सदस्य अपनी ईपीएफ राशि का 90 प्रतिशत तक 54 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद या सेवानिवृति के एक साल पहले, निकाल सकता है।

बेरोजगारी: ईपीएफओ ईपीएफ फंड में जमा कुल राशि का 75 प्रतिशत एडवांस में निकालने की सुविधा उस स्थिति में भी देता है जब कर्मचारी के पास किसी तरह का रोजगार नहीं रहता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Indian Railways: 25 जून से 12 जुलाई तक रद्द रहेंगी ये ट्रेनें, कई के रूट बदले, देखें LIST
2 Indian Railways: इस रूट पर ऑटोमैटिक सिग्नल प्रणाली का चलेगा मरम्मत कार्य, ये ट्रेनें रहेंगी कैंसल
3 22 साल में पहली बारः कर्मचारी राज्य बीमा की सहयोग राशि 6.5 फीसदी से घट कर हुई 4%, 3.6 करोड़ कर्मियों को राहत
ये पढ़ा क्या...
X