ताज़ा खबर
 

एक से अधिक है Provident Fund खाता, तब बढ़ सकती है आपकी मुश्किल! समझें UAN को कैसे किया जाता है मैनेज

Provident Fund: नई कंपनी में जॉइन करते समय आपको यूनिवर्सल अकाउंट नंबर देने की जरूरत होती है। यह नंबर कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की तरफ से ईपीएफओ मेंबर्स को जारी किया जाता है।

सांकेतिक तस्वीर।

(Priyadarshini Maji)

Provident Fund: नौकरियां बदलने पर हम में से कई लोगों के अलग-अलग कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) अकाउंट खुल जाते हैं। जब हम जॉब बदलकर नई कंपनी में ज्वॉइन करते हैं तो कंपनी हमारा नया ईपीएफ अकाउंट खोल देती है। ऐसा तभी होता है जब हम अपना पिछली कंपनी का यूनिवर्सल अकाउंट नंबर नई कंपनी को मुहैया नहीं करवाते। नई कंपनी में जॉइन करते समय आपको यूनिवर्सल अकाउंट नंबर देने की जरूरत होती है।

यह नंबर कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की तरफ से ईपीएफओ मेंबर्स को जारी किया जाता है। यदि आपका पुरानी कंपनी में यूएएन बना है और इसकी जानकारी नई कंपनी को नहीं है। ऐसे में नई कंपनी आपके नए पीएफ खाते के आधार पर नया यूएनएन नंबर बनवा देती है। ऐसी सूरत में पैन कार्ड धारक होने की स्थिति में आपको एक से अधिक खाते को ऑपरेट करने की अनुमति नहीं होती। आप इस समस्या को दूर करने के लिए अपने ईपीएफ खातों को मर्ज करना होगा। इस तरह जब भी आप नौकरी बदलते हैं, तो आप एक ही प्लेटफॉर्म पर अपना ईपीएफ ट्रांजेक्शन या पासबुक स्टेटमेंट देख पाएंगे।
ईपीएफ खातों को मर्ज करने के आमतौर पर दो तरीके हैं:-

1. पहला तरीका:-

– सबसे पहले, कर्मचारी को ईपीएफओ के साथ सूचना को अपडेट करना होगा। ऐसा करने के लिए, आपको ईपीएफओ की आधिकारिक ईमेल आईडी (uanepf@epfindia.gov.in) पर एक ईमेल भेजना होगा।

– इसके साथ, आपको अपने पुराने खाते को नए ईपीएफ खाते के साथ विलय करने के बारे में अपनी मौजूदा कंपनी को भी सूचित करना होगा।

– एक बार जब ईपीएफ आपका आवेदन प्राप्त कर लेता है, तो वे आपके यूएएन नंबरों की जांच करेगा।

– सत्यापन के बाद, ईपीएफओ पुराने यूएएन नंबर को ब्लॉक कर देगा।

– इसके बाद, आप अपनी ईपीएफ राशि को पुराने खाते से नए खाते में स्थानांतरित कर सकते हैं।

2. दूसरा तरीका:-

– इस पद्धति का लाभ उठाने के लिए, यह आवश्यक है कि आपका ईपीएफ खाता और आपका यूएएन नंबर एक दूसरे से जुड़ा हो।

– यदि आपका ईपीएफ और यूएएन एक दूसरे से जुड़े हुए हैं, तो ईपीएफओ की वेबसाइट पर जाएं, और ‘Employee One EPF Account’ टैब पर क्लिक करें।

– अपना पंजीकृत मोबाइल और यूएएन नंबर दर्ज करें।

– एक बार जब आप ऐसा करते हैं, तो आपको अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा।

– ‘click on a new page’ पर क्लिक करें, इसके बाद आपको अपने ईपीएफ पर सभी जानकारी दिखने लगेंगी।

Next Stories
ये पढ़ा क्या?
X