हड़बड़ी में गलत खाते में पहुंचा दिए रुपए? यह है सही अकाउंट में पैसे वापस पाने का प्रोसेस

दूसरे बैंक के खाते में जब गलती से रकम ट्रांसफर हो जाती है, तब उसे असल हकदार को वापस पाने में डेढ़ से दो महीने का समय लग सकता है।

Bank, Utility News, Hindi News
महाराष्ट्र के पुणे में बाजीराव रोड स्थित एक राष्ट्रीकृत बैंक के बाहर लगी भीड़। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः पवन खेंगड़े)

किसी अनजान खाते में रुपए पहुंच जाने पर आपकी रकम वापस भी मिल सकती है। बशर्ते आप संयम और सावधानी के साथ सही प्रक्रिया का पालन करें। हालांकि, इस प्रक्रिया में थोड़ा समय लग जाता है। पूरी जांच-पड़ताल के बाद पैसा सही व्यक्ति के पास पहुंचा दिया जाता है। दरअसल, कई बार लोग हड़बड़ी में, जानकारी के अभाव में, गलत डिटेल्स मिलने पर या फिर अन्य कारणों से सही खाते के बजाय दूसरे खाते में पैसे पहुंचा देते हैं। अधिकतर यह गलती गलत खाता संख्या डालने/भरने की वजह से होती है। बहरहाल, अगर आपसे भी यह चूक हो गई है, तब सबसे पहले अपने बैंक से संपर्क करें।

आप चाहें तो बैंक का कस्टमर केयर नंबर डायल कर के इसकी सूचना दे दें या फिर ई-मेल लिखकर इस बारे में मदद मांगें। अगर शाखा आपके घर के पास है तब कोशिश करें कि आप ब्रांच मैनेजर को इस बारे में खबर कर दें। आमतौर देखा गया है कि जिन खातों में अनजाने से या फिर अज्ञात लोगों का पैसा चला जाता है, वे आसानी से उस रकम को लौटाने के लिए राजी हो जाते हैं।

वैसे, अगर रिसीवर पैसे लौटाने से मना कर दे, तब क्या होगा? जवाब है- कानूनी कार्रवाई। आप उसके खिलाफ पुलिस को शिकायत दे सकते हैं। केस भी करा सकते हैं। हालांकि, यह चीज मामले को और पेंचीदा बना देगी और हो सकता है कि इसमें आपका पैसा निकलने में अधिक समय लग जाए। इसलिए कोशिश करें कि बैंक और अपने स्तर पर रिसीवर के साथ बातचीत के जरिए जल्द से जल्द हल निकालने की कोशिश करें।

जानकारी के मुताबिक, दूसरे बैंक के खाते में जब गलती से रकम ट्रांसफर हो जाती है, तब उसे असल हकदार को वापस पाने में डेढ़ से दो महीने का समय लग सकता है। एक्सपर्ट्स यह भी सुझाव देते हैं कि जिस बैंक की शाखा में पैसे ट्रांसफर हुए हो, वहां बात कर के भी मसला हल किया जा सकता है।

इस तरह बच सकते हैं इस भूल से:

  • जहां पैसे भेजने हैं, उस व्यक्ति के खाता नंबर को दो-तीन दफा अच्छे से क्रॉसचेक कर लें।
  • एक भी अंक इधर-उधर हो जाने से पूरा खाता नंबर बदल जाता है, इसलिए खाता नंबर अपने पास कहीं सेव कर के रखें। आपके इसके लिए फोन का नोटपैड यूज कर सकते हैं। यही नहीं, अकाउंट नंबर का स्क्रीनशॉट भी अपने पास रख सकते हैं, ताकि भूल की स्थिति में वह आपका काम न अटकने दे।
  • जब भी किसी नए खाते या अनजान व्यक्ति को पेमेंट करें, तो कोशिश करें कि पहले उसे डेमो के तौर पर एक रुपए भेज कर देख लें कि पैसे सही जगह जा रहे हैं या नहीं। यह प्रयोग मोटी रकम भेजने के वक्त खासा काम आता है।
  • अगर आपको किसी को कुछ-कुछ समय के अंतराल पर पैसे भेजते रहते हैं, तब उसे बेनेफीशियरी के तौर पर ऐड कर लें। इससे आपका समय भी बचेगा और बार-बार भ्रम भी नहीं रहेगा कि आपने डिटेल्स सही भरे या नहीं। जब बेनेफिशियरी ऐड करेंगे, तब एक बार डिटेल्स देने होंगे, उसके बाद बार-बार आपको इस काम में परेशान नहीं होना पड़ेगा।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
क्लोजर रिपोर्ट पर सफाई के लिए सीबीआइ ने मांगी मोहलतCoal Scam, Coal, Coalgate, CBI, Report, National News
अपडेट