Crypto में निवेश से पहले जान लीजिए ये एडवाइजरी, खुफिया एजेंसी ने जारी की फ्रॉड की चेतावनी

क्रिप्टोकरेंसी अभी डिसेंट्रलाइज्‍ड हैं, इसलिए लॉक होने पर रकम को फ‍िर से हासिल करना मुश्किल है। स्कैमर्स को उनका क्रिप्टो भुगतान तुरंत मिल जाता है, इस स्‍थ‍ित‍ि में पीड़ित के पास आर्थिक नुकसान के अलावा कुछ नहीं बचता है।

Cryptocurrency, FBI, Advisory, Fraud,
क्रिप्टोकरेंसी के जरिए फ्रॉड के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं जिसके चलते एफबीआई ने एडवाजरी जारी की है।

क्रिप्टोकरेंसी में लोगों की रुचि तेजी से बढ़ रही है। इसकी सबसे बड़ी वजह है इसके जरिए होने वाला मुनाफा। आपको बता दें क्रिप्टोकरेंसी में शेयर बाजार या किसी दूसरे इन्वेस्टमेंट से ज्यादा रिटर्न मिलने की उम्मीद रहती है। जिसके चलते लोग क्रिप्टोकरेंसी में तेजी से इन्वेस्ट कर रहे हैं। लेकिन हाल ही में अमेरिकी खुफिया एजेंसी यूएस फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (FBI) ने एक एडवाइजरी जारी की है। जिसमें साफ कहा गया है कि स्कैमर्स क्रिप्टोकरेंसी के जरिए आने वाले दिनों में बड़ा फ्रॉड कर सकते हैं। आइए जानते है FBI की एडवाइजरी के बारे में और इसके बचने का तरीका।

FBI ने अपनी एडवाइजरी में कही ये बात – एफबीआई ने चेतावनी में कहा है कि स्कैमर्स फिजिकल क्रिप्टोकरेंसी एटीएम और डिजिटल क्यूआर कोड का इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसे में अज्ञात कॉलर्स की क्रिप्टो-पेमेंट रिक्वेस्ट पर विचार नहीं करें। साथ ही लोग ऐसे कॉलर्स को अपनी पर्सनल इंफर्मेशन भी शेयर न करें। FBI ने साफ किया है कि, अगर आप इन दोनों ही एडवाइजरी का पालन करेंगे तो आपके साथ फ्रॉड होने की संभावना ना के बराबर हो जाएगी।

स्कैमर्स इन बातों से करते हैं गुमराह – एफबीआई ने अपनी चेतावनी में कहा है कि स्कैम करने वाले लोगों को पेमेंट रिक्वेस्ट करते हैं और विक्टिम के फाइनेंशियल अकाउंट्स जैसे इन्वेस्टमेंट या रिटायरमेंट अकाउंट्स से पैसे निकालने के लिए कहते हैं। इसके लिए स्कैमर लेन-देन के दौरान क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट से जुड़ा क्यूआर कोड देते हैं। जिससे विक्टिम निशाना बनने के बाद कोई कार्रवाई नहीं कर पाता।

क्रिप्टो ओनर्स इन कामों को करने से बचें – एफबीआई के अनुसार क्रिप्टो ओनर्स को उन एटीएम मशीनों का यूज नहीं करना चाहिए। जो केवल फोन नंबर और ईमेल आईडी के आधार पर लेनदेन की अनुमति देती हैं। एफबीआई ने कहा है कि ये क्रिप्टोकरेंसी एटीएम अमेरिकी फेडरल रेग्‍युलेशन का अनुपालन नहीं कर सकते हैं और मनी लॉन्ड्रिंग की सुविधा प्रदान कर सकते हैं। ऐसे कैरेक्‍टर वाले क्रिप्टोकरेंसी एटीएम का उपयोग धोखाधड़ी की वजह बन सकता है।

यह भी पढ़ें: Cryptocurrency में निवेश का बना लिया है मन तो Crypto 101 के बारे में जान लें सबकुछ, वरना हो सकती है दिक्कत!

वहीं एफबीआई की एडवाइजरी में बताया गया है कि, स्कैमर्स अपनी असल पहचान को छुपाने के लिए सभी तरह के कम्युनिकेशन ऑनलाइन रखने की कोशिश करते हैं। जिसके जरिए इन्हें ट्रेस करने में काफी मुश्किल होती है। साथ ही एफबीआई ने सलाह दी है कि, अजनबियों को किसी भी तरह की फंडिंग या डोनेशन न दें, भले ही वो खुद को सरकारी अधिकारी या सांसद क्यों ना बताएं।

इन जगहों पर हैं क्रिप्टोकरेंसी एटीमए – अमेरिका के साथ-साथ कई अन्य देशों में क्रिप्टोकरेंसी एटीएम अपनाएं जा रहे हैं। अक्टूबर में, वॉलमार्ट ने विजिटर्स को क्रिप्टो सिक्का खरीदने की इजाजत देने के लिए अमेरिका के चुनिंदा स्टोर्स में 200 बिटकॉइन एटीएम इंस्‍टॉल करने की घोषणा की थी। अल सल्वाडोर में भी बिटकॉइन एटीएम लोगों को क्रिप्टो टोकन में लेन-देन करने या इसे मुद्रा में बदलने की अनुमति देते हैं।

यह भी पढ़ें: ओल्ड फैशन होकर भी रिलायंस के JioPhone Next को खास बनाती हैं ये खूबियां, खरीदने से पहले जरूर जान लें

आपको बता दें क्रिप्टोकरेंसी अभी डिसेंट्रलाइज्‍ड हैं, इसलिए लॉक होने पर रकम को फ‍िर से हासिल करना मुश्किल है। स्कैमर्स को उनका क्रिप्टो भुगतान तुरंत मिल जाता है, जिसके बाद वे फौरन अपने अन्य खातों में पैसा जमा कर देते हैं। इस स्‍थ‍ित‍ि में पीड़ित के पास आर्थिक नुकसान के अलावा कुछ नहीं बचता है।

पढें यूटिलिटी न्यूज समाचार (Utility News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट