ताज़ा खबर
 

अब आसानी से हो सकेगा PF विदड्रॉल, EPFO ने शुरू किया नया फीचर, कर्मचारी ही कर सकेंगे ऑपरेट!

पूर्व में नियोक्ताओं द्वारा कर्मचारियों की नौकरी छोड़ने की तारीख ना अपडेट कराने, पिछली कंपनी द्वारा पोर्टल पर जानकारी ना दर्ज कराने के चलते पीएफ खाते बंद हो जाते थे।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

अगर आपको पीएफ विदड्रॉल या पीएफ ट्रांसफर में कोई समस्या आ रही है तो आपके लिए ये अच्छी खबर है। दरअसल कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने यूनिफाइड पोर्टल पर एक नया फीचर जोड़ा है। इसके चलते खाताधारक या कर्मचारी अपनी नौकरी बदलने पर इसकी जानकारी पॉर्टल पर अपडेट कर सकेंगे। अभी तक सिर्फ नियोक्ताओं को कर्माचारियों से जुड़ी जानकारियां अपडेट करने का अधिकार होता था। अब नया फीचर आने के बाद कर्मचारी खुद इसे ऑपरेट कर सकेंगे और संबंधित जानकारियां दर्ज करा सकेंगे।

दरअसल पूर्व में नियोक्ताओं द्वारा कर्मचारियों की नौकरी छोड़ने की तारीख ना अपडेट कराने, पिछली कंपनी द्वारा पोर्टल पर जानकारी ना दर्ज कराने के चलते पीएफ खाते बंद हो जाते थे। ऐसे में जब नौकरी छोड़ने की तारीख कर्मचारी की पॉर्टल पर दर्ज नहीं हो पाती थी तब उन्हें पीएफ निकासी या पीएफ खाते में जमा राशि को ट्रांसफर करने के लिए काफी लंबी प्रक्रिया का सामना करना पड़ता था।

हालांकि अब आपको पीएफ पोर्टल पर लॉगइन के लिए यूएएन नंबर और पासवर्ड की जरुरत होगी। इसके अलावा पोर्टल में नौकरी छोड़ने या बदलने की तारीख दर्ज करने से पहले चैक कर लें कि उक्त जानकारी आप पहले तो नहीं दे चुके। इसके लिए आप सर्विस हिस्ट्री का इस्तेमाल कर सकते हैं।

ऐसे अपडेट करें ‘डेट ऑफ एग्जिट’
वेबसाइट पर जाकर सबसे पहले माय अकाउंट पर क्लिक करें। इसके बाद ‘मार्क एग्जिट’ पर क्लिक करें।
इसके बाद अगले पेज की नीचे की तरफ नियोक्ता के विकल्प पर जाएं।
अब अगला पेज खुल जाएगा और आपको निम्म जानकारियां देनी होंगी-
जन्मतिथि
नौकरी ज्वाइन की तारीख
नौकरी छोड़ने की तारीख

ये सभी प्रक्रियाएं पूरी होने के बाद आप कर्मचारी द्वारा अंतिम योगदान महीने की किसी भी तारीख का चयन कर सकते हैं। अंतिम योगदान राशि का महीना जानने के लिए, EPFO​शीर्ष पैनल पर जानकारी देता है।

उल्लेखनीय है कि जब इन प्रक्रियाओं को अपडेट करेंगे तो आधार से रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी आएगा। इसके अलावा अगर आपने हाल के दिनों में नौकरी छोड़ी है और पैसा निकालना चाहते हैं तो नौकरी छोड़ने की तारीख दर्ज कराने के दो महीने बाद ही ऐसा किया जा सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि नियोक्ता द्वारा किए गए अंतिम योगदान के 2 महीने बाद ही बाहर निकलने की तारीख को अपडेट किया जा सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नौकरी करने वाले युवाओं और महिलाओं को ज्यादा टेकहोम सैलरी पर विचार कर रही मोदी सरकार, जानिए पूरा प्लान
2 IRCTC का अभियान: Indian Railway में यात्रा के दौरान वेंडर न दें बिल तो पैसे देने की जरूरत नहीं!
ये पढ़ा क्या?
X