scorecardresearch

COVID: क्या हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन Omicron वेरियंट के खिलाफ प्रभावी दवा हो सकती है?

हालांकि, मार्च 2020 के विपरीत जब एचसीक्यू को पहली बार एक उपचार के रूप में सुझाया गया था, हमारे पास कोविड ​​​​के इलाज के लिए बहुत सारी दवाएं हैं जिनमें एंटीवायरल, जैसे कि मोलनुपीरावीर और रेमेडिसवीर, एंटी-इंफ्लेमेटरी, जैसे डेक्सामेथासोन और एंटीबॉडी थेरेपी शामिल हैं।

कोरोना की तीसरी लहर के बीच नई दिल्ली में शहनाई बैंक्वेट हॉल के भीतर बने कोविड केयर फैसिलिटी में अपनी ड्यूटी के दौरान एक हेल्थ वर्कर। (फोटोः पीटीआई)

बेन कृष्णा, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय।

मलेरिया रोधी दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन, जिसे विवादास्पद रूप से मजबूत सबूतों की कमी के बावजूद कोविड के इलाज के रूप में जाना जाता है, ओमिक्रोन के संभावित उपचार के रूप में नए सिरे से चर्चा में है। ग्लासगो विश्वविद्यालय के एक नए अध्ययन से यह चर्चा तेज हो गई है, जो अभी तक वैज्ञानिक जर्नल में प्रकाशित नहीं हुआ है, जो यह दिखाता है कि टीकों से मिलने वाले एंटीबॉडी ओमिक्रोन को कोशिकाओं में प्रवेश करने से कैसे रोकते हैं।

शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला है, जैसा कि कई अन्य लोगों का भी मानना है, कि पिछले संस्करणों के खिलाफ या वैक्सीन से मिली एंटीबॉडी (प्रोटीन जो वायरस को बेअसर करते हैं) ओमिक्रोन के खिलाफ कम प्रभावी हैं। हालांकि, दिलचस्प बात यह है कि अध्ययन में पाया गया है कि शायद ओमिक्रोन ने कोशिकाओं में प्रवेश करने के तरीके को बदल दिया है।

सार्स-कोव-2, वायरस जो कोविड का कारण बनता है, हमारी कोशिकाओं की तरह एक लिपिड बाईलेयर (दो परतों से बनी एक पतली झिल्ली) में लिपटा होता है। जब वायरस हमारी कोशिकाओं में प्रवेश करता है, तो बाइलेयर्स पानी की सतह पर तेल की बूंदों की तरह फ्यूज हो जाते हैं, जिसे “मेम्ब्रेन फ्यूजन” कहा जाता है।

ये मेम्ब्रेन फ्यूजन तब होता है जब सार्स-कोव-2 स्पाइक प्रोटीन कोशिका की सतह पर ऐस2 रिसेप्टर से जुड़ जाता है, लेकिन यह दो अलग-अलग जगहों पर हो सकता है। यह कोशिका की सतह पर हो सकता है, या यह तब हो सकता है जब सार्स-कोव-2 वायरस एक अंत:काय में समा गया हो। दो तरह से कोरोनावायरस आपकी कोशिकाओं में प्रवेश करता है:

एक अंत:काय तब होता है जब कोशिका की झिल्ली पोषक तत्वों को लेने के लिए कोशिका के अंदर बाहरी सामग्री का एक बुलबुला बनाते हुए, अपने आप में वापस मुड़ जाती है। आम तौर पर कोशिका तब अन्य को छोड़कर उपयोगी पोषक तत्वों को अपने पास रखती है। हालांकि, कई वायरस कोशिकाओं में प्रवेश करने के तरीके के रूप में अंत:काय का प्रयोग करते हैं।

इसका मतलब है कि सार्स-कोव-2 के कोशिकाओं में प्रवेश करने के दो तरीके हैं: सतह से या अंत: काय के माध्यम से। ग्लासगो विश्वविद्यालय के अध्ययन से पता चलता है कि ओमिक्रोन ने ऐसा उत्परिवर्तन चुना है जो अंत:काय के माध्यम से हमारी कोशिकाओं में प्रवेश करने की क्षमता में सुधार करता है – और यही वह जगह है जहां हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की भूमिका शुरू होती है।

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (एचसीक्यू) एक ऐसी दवा है जो एंडोसोम में जमा हो जाती है और उनकी अम्लता को कम कर देती है, जिससे उनका कार्य बाधित हो जाता है। एंडोसोम को कम अम्लीय बनाना झिल्ली संलयन या मेम्ब्रेन फ्यूजन को कम करता है, जिससे सार्स-कोव-2 की कोशिकाओं में प्रवेश करने की क्षमता कम हो जाती है। तो एचसीक्यू एक एंटीवायरल के रूप में कार्य कर सकता है।

संभवतः इसी तरह एचसीक्यू एक मलेरिया-रोधी और प्रदाह-रोधी दवा के रूप में कार्य करता है (हालाँकि कुछ शोधकर्ता इस पर विवाद करते हैं)। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि नया अध्ययन ओमिक्रोन पर एचसीक्यू के प्रभाव का परीक्षण नहीं करता है। हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के लिए भी महामारी का यह दौर कठिन रहा है।

महामारी के दौरान एचसीक्यू को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म रहा। कोविड के खिलाफ एचसीक्यू के प्रभावी होने का दावा करने वाले पहले अध्ययन की विज्ञान विशेषज्ञ एलिजाबेथ बिक ने आलोचना की थी, जिन्होंने नैतिकता, परीक्षणों की समयसीमा, रोगियों के लिए यादृच्छिकरण की कमी और डेटा नहीं होने पर सवाल उठाया था।

उस अध्ययन के प्रमुख लेखक डिडिएर राउल्ट ने बिक के खिलाफ नैतिक उत्पीड़न, ब्लैकमेल और जबरन वसूली के आरोप लगाते हुए एक आपराधिक शिकायत दर्ज की। इस दौरान, फ्रांसीसी राष्ट्रपति, इमैनुएल मैक्रों ने एचसीक्यू को बढ़ावा दिया – मैं इसे एक साथी फ्रांसीसी के समर्थन के तौर पर देखता हूं, हालांकि डोनाल्ड ट्रम्प ने भी दवा के उपयोग का समर्थन किया और उन्होंने ऐसा क्यों किया इसकी वजह भी केवल डोनाल्ड ट्रम्प ही बेहतर जानते हैं।

इससे भी अधिक विचित्र बात यह है कि, लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया कि एचसीक्यू उपचार ने वास्तव में मृत्यु दर में वृद्धि की, हालांकि इस बाद के अध्ययन में डेटा धोखाधड़ी का भी आरोप लगाया गया है। इस सब के दौरान, अन्य शोधकर्ता एचसीक्यू के लिए कोई सकारात्मक लाभ, या साइड-इफेक्ट्स के लिए मजबूत संकेत खोजने में विफल रहे हैं। एचसीक्यू अब तक विज्ञान का सबसे खराब उदाहरण रहा है।

लेकिन क्या हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन ओमिक्रोन के खिलाफ कारगर होगी? मैं एचसीक्यू के साथ ओमिक्रोन संक्रमण के इलाज के लाभ नहीं देख पा रहा हूं। ग्लासगो विश्वविद्यालय के अध्ययन में, शोधकर्ताओं ने दिखाया कि ओमिक्रोन महामारी के अन्य रूपों की तुलना में एंडोसोम के माध्यम से कोशिकाओं में अधिक प्रवेश करता है, लेकिन वे यह नहीं दिखाते हैं कि ओमिक्रोन एंडोसोम या अंत:काय का उपयोग करने तक ही सीमित है। यह अभी भी कोशिका की सतह से प्रवेश कर सकता है। ऐसे में ओमिक्रोन को एंडोसोम के माध्यम से प्रवेश करने से रोकने के लिए एचसीक्यू का उपयोग करना वायरस को कोशिकाओं में प्रवेश करने से केवल मामूली रूप से सीमित करेगा।

यह दिखाने के लिए कि एचसीक्यू ओमिक्रोन के खिलाफ प्रभावी है, वैज्ञानिकों को एचसीक्यू की उपस्थिति और अनुपस्थिति में कोशिकाओं को ओमिक्रोन से संक्रमित करने की आवश्यकता है। यदि इससे पता चलता है कि एचसीक्यू ओमिक्रोन के खिलाफ प्रभावी है, तो नैदानिक ​​परीक्षण में एचसीक्यू का परीक्षण करना समझदारी होगी।

हालांकि, मार्च 2020 के विपरीत जब एचसीक्यू को पहली बार एक उपचार के रूप में सुझाया गया था, हमारे पास कोविड ​​​​के इलाज के लिए बहुत सारी दवाएं हैं जिनमें एंटीवायरल, जैसे कि मोलनुपीरावीर और रेमेडिसवीर, एंटी-इंफ्लेमेटरी, जैसे डेक्सामेथासोन और एंटीबॉडी थेरेपी शामिल हैं।

पढें यूटिलिटी न्यूज (Utility News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट