ताज़ा खबर
 

Dhanteras Puja 2019: धनतेरस पर खरीदने जा रहे चांदी तो पहले जान लें ये पांच अहम बातें

Dhanteras 2019: चांदी पर बीआईएस Bureau of Indian Standards (BIS) मार्क होता है। अगर कोई आभूषण विक्रेता आपको बिना बीआईएस मार्क वाला चांदी देता है तो आप उससे बाआईएस मार्क वाले चांदी की मांग करें।

Dhanteras 2019, Gold,Silverधनतेरस 2019: चांदी खरीदने के दौरान इन बातों का ध्यान रखिए।(सांकेतिक तस्वीर)

धनतेसर के मौके पर चांदी और सोने की खरीदारी अक्सर शुभ मानी जाती है। अधिकतर लोग दिवाली के मौके पर सोना खरीदना पसंद करते हैं। सोने के अलावा चांदी का भी विकल्प अच्छा और वाजिब माना जाता है। सोने के आभूषण की जगह आप चांदी के सिक्के , आभूषण जैसी चीजें खरीद सकते हैं। सोना महंगा भी होता है और चांदी सोने से कम दम में मिल जाती है। तो अगर आप सोना खरीदने की बजाए चांदी खरीदने जा रहे हैं तो आपको यह पांच खास बातें जान लेनी चाहिए।

चांदी की शुद्धता की परख: सोने की तरह चांदी में भी हॉलमार्क होता है जिससे चांदी की गुणवत्ता परखी जाती है। चांदी पर बीआईएस Bureau of Indian Standards (BIS) मार्क होता है। अगर कोई आभूषण विक्रेता आपको बिना बीआईएस मार्क वाला चांदी देता है तो आप उससे बाआईएस मार्क वाले चांदी की मांग करें। बीआईएस लोगो शुद्धता ग्रेड। सुंदरता हॉलमार्किंग सेंटर्स का पहचान चिह्न। ज्वेलर की पहचान संख्या और चिन्ह चांदी की शुद्धता की पहचान करने में मददगार साबित होते हैं।

इन बातों का रखें ख्याल: जानकारों के मुताबिकहमेशा प्रमाणित रिटेल आउटलेट से हॉलमार्क वाले उत्पाद ही खरीदें। बीआईएस पंजीकृत ज्वैलर्स के रूप में भी जहां से हॉलमार्क वाले चांदी के उत्पाद खरीद सकते हैं। (बीआईएस-लाइसेंस प्राप्त ज्वैलर्स की सूची के लिए यहां क्लिक करें।) चांदी के उत्पादों को खरीदते समय, आपको रसीद लेनी चाहिए ताकि आपके पास एक साक्ष्य हो। इसके अलावा यह भी सुनिश्चित करें कि रसीद में चांदी और वजन की शुद्धता का जिक्र हो। यदि आप चांदी का सिक्का खरीद रहे हैं, तो सुनिश्चित कर लें कि उस पर लिखा वर्ष रसीद में भी लिखा होना चाहिए।

मार्केट रेट: चांदी के आभूषण खरीदते समय ध्यान रखें कि बाजार की कीमत में और आपके खरीदे जाने वाले चांदी के दामों में क्या अंतर है। ज्वेलर से आपको यह पूछना चाहिए कि बाजार में प्रचलित चांदी की कीमत क्या है और आप जो आभूषण खरीदना चाहते हैं, उसके लिए क्या शुल्क लिया जा रहा है। जानकारों के मुताबिक आमतौर पर चांदी के आभूषण में बनाने के के लिए शुल्क अधिकतम 3 रुपये प्रति ग्राम से शुरू होता है।

बाय-बैक पॉलिसी: बाय-बैक पॉलिसी की जांच कर लें। कई लोग नया खरीदने के लिए पुरानी चांदी या सोने के आभूषण बेचते हैं। नए चांदी के आभूषण या बर्तन खरीदते समय ज्वेलर से खरीद-फरोख्त की नीति के बारे में पूछें। यदि आप भविष्य में खरीदे गए आभूषण को उसी जौहरी को वापस बेचने का फैसला करते हैं तो आपको कितना पैसा मिलेगा?

Next Stories
1 PAN CARD कहीं फर्जी तो नहीं? ऐसे ONLINE किया जा सकता है VERIFY
2 BANK डूबा तो आपकी जमा रकम और FIXED DEPOSIT का क्या होगा? जानिए पूरे नियम
3 मैच्योरिटी से पहले निकालना चाहते हैं रुपए तो लगेगी पेनाल्टी, जानिए तरीका और शुल्क की दरें
कोरोना LIVE:
X