scorecardresearch

नौकरी बदलने पर EPFO में दर्ज नहीं हुई ‘Date of Exit’, तो खुद कर सकते है अपडेट, जानिए प्रोसेस

EPF की कई सुविधाओं के लिए एग्जिट डेट मार्क होना काफी जरूरी है। पहले एग्जिट डेट मार्क करने का अधिकार सिर्फ एम्प्लॉयर के पास रहता था। जिसमें कई बार पुरानी कंपनी के एचआर डेट ऑफ एग्जिट अपडेट नहीं करते। जिसके चलते कर्मचारी जरूरत के समय पीएफ अकाउंट से निकासी नहीं कर पाते।

EPFO, Date of Exit, PF Account, UAN,
पीएफ अकाउंट में किए गए अंतिम कॉन्ट्रिब्यूशन के दो महीने बाद ही मार्क किया जाना चाहिए।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन अपने सब्सक्राइबर्स को कई फायदे देता है। जिसमें सब्सक्राइबर्स को 7 लाख रुपये का टर्म इंश्योरेंस मिलता है और अपने रिटायरमेंट फंड पर अच्छी खासी ब्याज मिलती है। लेकिन कई बार नौकरी बदलने पर पुरानी कंपनी की ओर से कर्मचारी के UAN अकाउंट में डेट ऑफ एग्जिट अपडेट नहीं की जाती। जिसके चलते पुरानी कंपनी का पीएफ अमाउंट आपके नई कंपनी के पीएफ अमाउंट में नहीं जुड़ पता और ऐसे में पुराने फंड को यूज नहीं कर सकते। अगर आपके साथ भी डेट ऑफ एग्जिट को लेकर समस्या आ रही है। तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। क्योंकि यहां हम आपको अपने आप डेट ऑफ एग्जिट अपडेट करने का आसान तरीका बताने जा रहे हैं। आइए जानते इसके बारे में….

क्यों जरूरी है डेट ऑफ एग्जिट अपडेट करना – EPF की कई सुविधाओं के लिए एग्जिट डेट मार्क होना काफी जरूरी है। पहले एग्जिट डेट मार्क करने का अधिकार सिर्फ एम्प्लॉयर के पास रहता था। जिसमें कई बार पुरानी कंपनी के एचआर डेट ऑफ एग्जिट अपडेट नहीं करते। जिसके चलते कर्मचारी जरूरत के समय पीएफ अकाउंट से निकासी नहीं कर पाते।

कब होती है एग्जिट डेट अपडेट – यहां यह ध्यान रहे कि एग्जिट की तारीख तब अपडेट की जाती है, जब कर्मचारियों और नियोक्ताओं दोनों के हिस्‍से का कॉन्ट्रिब्यूशन जमा होना बंद हो गया हो। यह कंपनी की ओर से किसी के पीएफ अकाउंट में किए गए अंतिम कॉन्ट्रिब्यूशन के दो महीने बाद ही मार्क किया जाना चाहिए।

डेट ऑफ एग्जिट अपडेट करने का प्रॉसेस

>> वेबसाइट https://unifiedortal-mem.epfindia.gov.in/memberinterface/ पर जाएं.
>> UAN और पासवर्ड के साथ लॉगिन करें।
>> मैनेज में जाएं और मार्क एग्जिट पर क्लिक करें।
>> सलेक्ट एम्प्लॉयमेंट ड्रॉप डाउन मेनू पर क्लिक करें और अपना ईपीएफ अकाउंट नंबर चुनें।
>> डेट ऑफ एग्जिट की तारीख और एग्जिट की वजह को दर्ज करें।

यह भी पढ़ें: इंश्योरेंस कंपनी और ब्रोकर की सर्विस से हैं परेशान? तो बीमा लोकपाल में कर सकते हैं ऑनलाइन शिकायत

>> OTP के लिए रिक्वेस्ट करें और अपने आधार से जुड़े मोबाइल नंबर पर भेजे गए ओटीपी को दर्ज करें।
>> चेक बॉक्स को टिक करें जिसमें कहा गया है कि- मैंने नीचे दिए गए प्वाइंट्स को ध्यान से पढ़ा है।
>> अब ‘अपडेट’ पर क्लिक करें।
>> अब आपको आपकी स्क्रीन पर एक पॉप-अप मैसेज आएगा। जिसमें लिखा होगा- “डेट ऑफ एग्जिट सफलतापूर्वक अपडेट की गई”।
>> प्रॉसेस पूरा करने के लिए ओके बटन पर क्लिक करें।

पढें यूटिलिटी न्यूज (Utility News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट