ताज़ा खबर
 

कोरोना के नाम पर चंदा तो नहीं दे रहे? पलभर में खाता हो सकता है खाली, ऐसे बचें

कोरोना के नाम पर आपको ई-मेल, एसमएस और कॉल कर इमोशनल कर साइबर ठग फ्रॉड को अंजाम दे रहे हैं। कुछ मामलों में आरोपी इलाज के नाम पर चंदा मांगकर ठगी करते हैं।

Cyber attack, cyber crime

कोरोना संकट के इस दौर में साइबर ठगी के मामलों में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है। संक्रमण से बचाव के तरीके को अपनाते हुए लोग ज्यादात्तर समय घरों पर ही व्यतीत कर रहे हैं। इस दौरान इंटरनेट पर लोगों की निर्भरता पहले के मुकाबले बढ़ी है। साइबर ठग भी एक्टिव हैं और लोगों को नए-नए तरीकों से ठगी का शिकार बना रहे हैं। ऐसा ही एक तरीका है जो साइबर ठगों ने अपनाया है वह है कोरोना के नाम पर चंदा मांगकर।

कोरोना के नाम पर आपको ई-मेल, एसमएस और कॉल कर इमोशनल कर साइबर ठग फ्रॉड को अंजाम दे रहे हैं। कुछ मामलों में आरोपी इलाज के नाम पर चंदा मांगकर ठगी करते हैं। इसके अलावा आरोपी खुद को हेल्थ डिपार्टमेंट का कर्मी बताकर लोगों का डाटा ले रहे हैं।

ऐसे में लोगों को पुलिस और राज्य सरकारों द्वारा जानकारी दी गई है कि इस तरह के किसी भी ई-मेल और कॉल से बचें जिसमें आपके खाते की जानकारी मांगी जाए या आपसे ओटीपी आदि की डिमांड की जाए। आपसे फोन कर चंदे की मांग करने वाले लोगों से बचें। वहीं अगर कोई खुद को हेल्थ डिपार्टमेंट का कर्मी बताकर आपकी निजी जानकारी मांगे तो साझा करने से बचें।

बैंको ने सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे उन पोस्ट से बचने के लिए कहा है जिसमें ई-मेल एड्रेस सर्कुलेट किया जा रहा है। इन पोस्ट में कहा जा रहा है कि लोगों का फ्री कोरोना टेस्ट करवाया जाएगा। बैंकों के मुताबिक ग्राहकों को इस मेल आईडी के जरिए फ्री कोरोना टेस्ट करने के लिए कहा जा रहा है। ये एक फर्जी मेल है और इसके जरिए ठग लोगों के पसर्नल बैंक खातों की डेटेल लेकर ठगी को अंजाम दे रहे हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ATM से नकली नोट निकल आए तो घबराए नहीं, करें ये काम
2 PM Kisan Yojana: सही लाभार्थियों का पता लगाने के लिए हो रहा फिजिकल वेरिफिकेशन, जानें इसका पूरा प्रॉसेस
3 ये हैं डेयरी फार्म लोन मुहैया करने वाले प्रमुख बैंक, जानें कैसे उठा सकते हैं फायदा
ये पढ़ा क्या?
X